मजदूर by Neerja Mehta

0
219
  1. मज़दूर* ( बाल कविता )

नीरजा मेहता,सेवानिवृत्त शिक्षिका

कंकड़ पत्थर ढो कर जिसने
आलिशान महल बनाए
तिनका तिनका जोड़ के अपनी
खुद वो झोपड़ पट्टी बनाए।

शिक्षा पाने की कोशिश
हरदम उसकी व्यर्थ ही जाए
नेता ने भी वोट मांगकर
झूठे सब्ज़ बाग़ दिखाए।

गर्मी सर्दी हो या बारिश
मेहनत कर वो रंग जमाए
घर में सूखी रोटी पे उसकी
कुत्ता भी है आँख गड़ाए।

रोटी कपडा औ ‘ मकान
तीनों से वंचित हो जाए
नेता के भाषण में हर दम
गरीबी रेखा में ही आए।

आठ पहर वो श्रम करके
घर में ख़ुशी से नाचे गाए
घर छोटा और दिल बड़ा
वो सच्चा मज़दूर कहलाए।

नीरजा मेहता

Loading...
SHARE
Previous articleदिहाड़ी मजदूरby Pawan jaipuri
Next articleमजदूर: एक पूर्ण व्यक्तित्व by अनीला बत्रा,
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here