न जाने क्यों by Dr.Purnima Rai

0
42

न जाने क्यों (कविता )by Dr.Purnima Rai

रिश्तों को सहेजते रहे
कपड़ों की तरह
एक उम्र भी अब
लगने लगी है कम न जाने क्यों !!
कपड़े तो नित नये
सिलवाने लगे हैं सब
मगर रिश्तों में आया नयापन
अखरने लगा है न जाने क्यों !!
दीवार से सटी अलगनी की
पकड़ भी समय के साथ
ढीली हो गई जनाब
वो तो महज वस्तु है बेजान
फिर रिश्ते बदलने लगे तो
क्यों हुआ दर्द का अहसास
ये रिश्ते है दिल से जुड़े
जज़्बात है इनका आधार !
लेते हैं लोग बार-बार परीक्षा अपनों की
न जाने क्यों
कहीं परीक्षा देते-देते
अपने भी न हो जायें अनजान
फिर रह जायेंगे खाली
ईंट-पत्थरों के मकान !
किसको आवाज देंगे
जब पूरे नहीं होंगे अरमान
कपड़े तो फेंक देते हैं उतार कर
जब भी मन चाहे
पर रिश्ते कभी फेंके नहीं जाते यजमान !
रिश्तों की सौंधी महक
हर पल खींचती रहती है अपनों को
अपनों से मिलाने के लिये
बीच की दरार को भरने के लिये!
दूर जाने वाले को पास लाने की
बेइतंहा कोशिश में
कभी झुकती है तो कभी मिटती है
पर यह महक जीवंत रहती है ताउम्र
न जाने क्यों!!
न जाने क्यों!!

डॉ पूर्णिमा राय,पंजाब
drpurima01.dpr@gmail.com
www.achintsahitya.com

Loading...
SHARE
Previous articleस्वागत है नववर्ष तुम्हारा !
Next articleमैंने अपना नाम बदल लिया है!
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here