सनद रहें ! देश में आम चुनाव है!

1
24

सनद रहें ! देश में आम चुनाव है…डॉ.अर्पण जैन ‘अविचल’

अफरा-तफरी का दौर शुरू हो गया, आवाजाही पर संदेह शुरू है, बैण्ड बाज़ा बारात भी तैयार है, हर तरफ चुनावी शौर है, वादों की बौछार है, कोई पिछले 70 सालों के हिसाब दे रहा है तो कोई पाँच सालों की खतौनी कर रहा हैं, कोई राज्य का विकास गिना रहा है तो कोई ऊँट के मुहँ में जीरे जैसा किसानों के कर्ज माफी को भुना रहा है, कही आतंक का सूपड़ा साफ बताया जा रहा है तो कोई सेना के शौर्य के सबूत मांग रहा है, कोई वैश्विक प्रगति दिखा रहा है तो कोई बढ़ती बेरोज़गारी बता रहा है, कोई आदमकद सरदार बता रहा है तो कोई यथावत मुँह बाहें खड़ी भुखमरी गिना रहा है, कोई साफ़ स्वच्छ शहर भुना रहा है तो कोई राफेल के घोटालों की स्वच्छता बता रहा है, कोई मुँह तोड़ जवाब दिखा रहा है तो कोई महागठबंधन को सार्वभौमिक स्वीकार बता रहा है। खैर सबके अपने-अपने विषय है, अपने-अपने मुद्दे, क्योकि देश में आम चुनाव हैं।

हर पांच साल में एक समय ऐसा आता ही है जब समूचा देश एक हो कर केवल सुनता है, भरोसा करता है, ठगा भी महसूस करता है, और खामोशी से अपने मत को दान कर आता है। परिणाम की परवाह तो रहती है पर उसके बाद आए खौखले भूचाल से जनमानस हतप्रद भी रह ही जाता है।

आज़ादी के बाद विगत 7 दशकों से तो यही क्रम यथावत चला आ रहा है, हर बार यही होता आया है, पहले भी घोटालों का अंबार था, अब भी है, आतंक की समस्या पहले दिन से बरकरार है, आज भी जीवित तो यही है, पहले भी वादे और वादाखिलाफी होती थी, आज भी वही यानी नया कुछ नहीं। पंच वर्षीय कार्यक्रमों की तरह चुनाव भी महज घोषणा पत्र होते जा रहे है। नागनाथ और साँपनाथ के बीच चयन की दुधारी तलवार पर चलना सदा से ही मतदाता का कार्य रहा है। इस बार भी यह मौका आ ही गया, जब जनता को चुनना होगा अपना नेता, अपनी सरकार और अपने साथ-साथ राष्ट्र की प्रगति।

बहरहाल ये समय इतना कठिन होता है कि जनता विश्वास नहीं कर पाती कि कौन सही-कौन गलत। यत्र तत्र सर्वत्र केवल यही चकल्लस व्याप्त है कि अगला प्रधानमंत्री कौन, क्या 56 इंची सीना लौटेगा, क्या चौकीदार ने सही चौकीदारी की या फिर देश का पैसा लेकर भागने वालों की मदद की, या सर्वहारा वर्ग को छोड़कर उद्योगपतियों के दिल जीता। सवाल कई है, पर सवालों की जड़ में केवल विश्वास की खाद ही डाली जा रही है। विश्वास न करने के कई कारण है भी और विश्वास करने के भी। इन सब के बीच कहीं कुछ गायब है तो वो है मुद्दे। मुद्दों की राजनीति गौण है, और सवाल कहीं नजर नहीं आ रहे। देश का प्रधानमंत्री चौकीदार बनने  पर आमादा है तो वही मंत्री परिषद सब के सब चौकीदार हो गए। अजीब किस्सागौई है देश में, जहाँ एक तरफ भूख और बेरोजगारी से जूझता देश वासी है तो दूसरी तरफ मंदिर-मस्ज़िद का मसला, आतंक का हश्र और फिर कहीं चौकीदार की कहानी खड़ी हुई है। आमचुनाव एक तरह से मतदाता के लिए तो सरदर्द ही लेकर आता है, नेता तो अपने भविष्य के लिए जद्दोजहद करता है, पर मतदाता लोक लुभावन वादों में फंस जाता है। अबकी बार मतदाता को जागरूकता और सजगता के साथ मतदान करना होगा। वर्ना अब मौका हाथ से जाने पर फिर देश पाँच साल पीछे चला जाएगा। जनता के दरबार में फिर आपका नेता आएगा हाजरी लगाने, पर जनता को समझदारी से चुनना है अपना नेता अपनी सरकार जो देश को विकास के रास्ते प्रगति पथ पर अग्रसर करें, अन्यथा राष्ट्र फिर विसंगति के दौर से हारेगा हर बार और कमजोर होगा।

डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’

पत्रकार एवं स्तंभकार

संपर्क०७०६७४५५४५५

अणुडाकarpan455@gmail.com

अंतरताना:www.arpanjain.com

[लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान,भाषा समन्वयआदि का संचालन कर रहे हैं ]

Loading...
SHARE
Previous articleअंतर्राष्ट्रीय  महिला दिवस पर विशेष :नारी के रूप अनेक
Next articleआयी फिर से होली रे !!
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here