नया साल नयी उम्मीद!!

1
51

🙏🙏नया साल नयी उम्मीद🙏🙏

______(नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं)______

आओ नया साल कुछ यूं मनाये,
मन में प्रेम के दीपक जलाये__
ईश्वर को रहने दे ईश्वर ही,
आओ हम सब इंसा बन जाये__
जाति धर्म का भेद मिटाकर,
मन में नव दीपक जलाये__
रहे न कोई भी भूखा और प्यासा,
किसानों को उनका हक दिलाये___
बेटों को देकर संस्कारों का तोहफा,
सबकी बिटिया की अस्मत बचाये__
झूठे कसमें न खाये न खाने दे,
हम ये करेंगे वो करेंगे____
आओ हम कुछ कर दिखाये,
ईश्वर को रहने दे ईश्वर____
आओ हम सब इंसा बन जाये,
नया साल हो व नयी उम्मीदें___
दिखावे के इस समय में,
आओ हम सच का साथ निभाये____
महंगे महंगे उपहारों के बदले,
आओ सबको गले लगाये____
नफरत की दीवार गिराकर,
मात पिता को भगवन और____
घर को मन्दिर बनाये,
आने वाले साल को हम___
आओ अपने नेक कर्मों की भेंट चढाये,
मंहगाई की रफ्तार के संग संग___
रोजगार का श्रोत बढाये,
रहे न कोई भी उदास परेशान____
आओ मिल बेरोजगारी मिटाये,
एक नये संकल्प व नयी उम्मीद संग___
आओ हम सब मिल नववर्ष मनाये,
ईश्वर को रहने दे ईश्वर____
आओ हम सब इंसा बन जाये !!

रूबी प्रसाद
सिलीगुड़ी

Loading...
SHARE
Previous articleनव वर्ष मंगलमय हो!!
Next articleगीत मेरे झर रहे !!
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here