मैं रोज़ कुछ लिखता हूँ!!

0
10

मैं रोज़ कुछ लिखता हूँ!!

मैं रोज़ कुछ लिखता हूँ
और भूल जाता हूँ कि
कल क्या लिखा था
क्या विषय था मेरे लिखने का
और किस कारण मैंने ऐसा लिखा था
मेरी उस कविता से कितना कुछ बदल गया
और कितनी बेहतर स्थिति में पहुँच गया यह समाज
जिसमें मैं रहता हूँ
और जिसे रोज़ कोसता हूँ
इसकी नपुंसकता के लिए
इसके मरे होने के लिए
जहाँ कुछ भी बदलता नहीं
और बदलता है तो
सिर्फ चन्द लोगों के लिए
जो शक्ति के स्वामी हैं
जिन्हें छूट है अपनी मनमानी की
जो रोज़ संविधान में संशोधन का माद्दा रखते हैं
जिन्हें समझ है धन के इस्तेमाल का
और जाति,धर्म,अशिक्षा,गरीबी,बेरोज़गारी की राजनीति का
क्या इन सब में फँस कर
मेरी कविता उसी रूप में पढ़ी,देखी और समझी जाएगी
जैसा कि मैं लिखता हूँ
या किसी दिन रोड पर पड़े
बेनाम लाश की तरह
मुर्दाघर में फेंक दी जाएगी
या किसी बच्ची की तरह
इसकी भी इज़्ज़त लूट ली जाएगी
और खुले बदन छोड़ दिया जाएगा तमाशा बनने के लिए
बीच बाज़ार में
या किसी दिन सदन में ये बहस होगा
की ऐसी कविताएँ क्यों रची जाती हैं
कौन है इसका लेखक
और क्या उसका संबंध
वर्ग-विभाजन और राष्ट्रद्रोह से
और
मेरी कविता लिखने की
क्षमता पर प्रश्न उठाकर
मेरी प्रतिभा पंगु कर दी जाएगी
फिर
किसी गुमशुदा जगह पर फटेहाल मैं मिलूँगा
और बदनाम हो जाएगी
मेरी वो कविता
जो कई रात जाग कर
बीवी से झगड़ कर
और बच्चों के हाथों से
फटने से बचाके लिखी थी
आँखों के नीचे काले गढ्ढ़े
और बालों की सफेदी
इस बात की साक्षी हैं कि
मैने अपना खून जलाया है,
स्वेद बहाया है
और
खुद को खोया है
इस कविता के निर्माण में
पर अब मैं सत्य समझ चुका हूँ
कि
सत्य वो नहीं
जो मैं अपनी कविताओं में लिखता हूँ
बल्कि हर एक का सत्य अलग है
जो हर कोई अपनी सहूलियत से मेरी कविता से निकालता है
और छोड़ जाता है
मेरी कविताओं में
एक सड़ी हुई लाश
और उस लाश से घिरा
मुझ जैसा उसका लाचार लेखक

लेखक परिचय
सलिल सरोज जन्म: 3 मार्च,1987,बेगूसराय जिले के नौलागढ़ गाँव में(बिहार)।
शिक्षा: आरंभिक शिक्षा सैनिक स्कूल, तिलैया, कोडरमा,झारखंड से। जी.डी. कॉलेज,बेगूसराय, बिहार (इग्नू)से अंग्रेजी में बी.ए(2007),जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय ,
नई दिल्ली से रूसी भाषा में बी.ए(2011), जीजस एन्ड मेरी कॉलेज,चाणक्यपुरी(इग्नू)से समाजशास्त्र में एम.ए(2015)। प्रयास: Remember Complete Dictionary का सह-अनुवादन,Splendid World Infermatica Study का सह-सम्पादन,
स्थानीय पत्रिका”कोशिश” का संपादन एवं प्रकाशन, “मित्र-मधुर”पत्रिका में कविताओं का चुनाव।
सम्प्रति: सामाजिक मुद्दों पर स्वतंत्र विचार एवं ज्वलन्त विषयों पर पैनी नज़र। सोशल मीडिया पर साहित्यिक धरोहर को जीवित रखने की अनवरत कोशिश।पंजाब केसरी ई अखबार ,वेब दुनिया ई अखबार, नवभारत टाइम्स ब्लॉग्स, दैनिक भास्कर ब्लॉग्स,दैनिक जागरण ब्लॉग्स, जय विजय पत्रिका, हिंदुस्तान पटनानामा,सरिता पत्रिका,अमर उजाला काव्य डेस्क समेत 30 से अधिक पत्रिकाओं व अखबारों में मेरी रचनाओं का निरंतर प्रकाशन। भोपाल स्थित आरुषि फॉउंडेशन के द्वारा अखिल भारतीय काव्य लेखन में गुलज़ार द्वारा चयनित प्रथम 20 में स्थान। कार्यालय की वार्षिक हिंदी पत्रिका में रचनाएँ प्रकाशित।

सलिल सरोज
B 302 तीसरी मंजिल
सिग्नेचर व्यू अपार्टमेंट
मुखर्जी नगर
मो. 9968638267
ई-मेल:salilmumtaz@gmail.com

  

Loading...
SHARE
Previous articleज़माने की सियासत में अहम पहचान है भारत
Next articleदीपों का त्योहार मुबारक हो सबको!!
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here