राख हुये जग रो दिया !by Dr.Purnima Rai

0
24

राख हुये जग रो दिया !by Dr.Purnima Rai

कंचन काया मोहिनी,सिर्फ राख का ढेर।
सीरत शबरी देखकर,राम ने खाय बेर।।1)

करते रक्षा राख की, निष्ठुर कपटी लोग।
अन्त समय पछता रहे,पाप कर्म फल भोग।।2)

मनचाही फसलें मिलें,यत्न कृषक के लाख।
बेमौसम बरसात से,होते सपने राख।।3)

कंचन तन जग सोहता,राख करे है काल।
मन से मन का हो मिलन,बाजे सुर औ’ताल।।4)

चिंता की चक्की चली,इज्जत का व्यापार।
बाप चिता के सामने,राख हुआ घर-बार।।5)

झण्डा ऊँचा देश का,सैनिक रखते धीर।
राख बड़ी अनमोल है,साख बचाते वीर।।6)

भारत की भू के लिये,तन-मन है कुर्बान।
तिलक लगाकर राख का,वीर करेंअभिमान।।7)

हाथ ‘पूर्णिमा’ कुछ नहीं, जन्म-मरण का खेल।
राख हुये जग रो दिया, हुये हृदय से मेल।।8)

डॉ.पूर्णिमा राय
अमृतसर(पंजाब)
7087775713

Loading...
SHARE
Previous articleऊब !
Next articleजिंदगी अचानक यूँ थम सी गई!! 
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here