आज़ादी

1
125

 

आज़ादी
******

आज़ादी हम ले आये हैं
आज़ादी का मान करो।
भारत माता का प्यारो अब
तुम सब मिलकर ध्यान धरो।

आज़ादी की ख़ातिर हमने
क्या क्या पापड़ बेले हैं।
बेड़ी माँ की कटवाने को
खून से होली खेले हैं।

याद सदा तुम रखना यारो
माँ ने बेटों को खोकर।
पौध लगाई है उल्फत की
वीर शहीदों को बोकर।

शहरा बाँध कफ़न का सिरपर
सीना ताने रहते वो।
आज भी यारो प्रहरी बनकर
रोज फ़साने कहते वो।

याद करो वो तीन लाड़ले
जो शत्रु को खटक गए।
एक न मानी अंग्रेजों की
हँसते हँसते लटक गए।

भारत माँ की गाँथायें गा
पीर सभी सह जाते थे।
देख फिरंगी उनके करतब
भौचक्के रह जाते थे।

ऐसे वीर शहीदों का तुम
शीश झुका सम्मान करो
आज़ादी हम ले आये हैं
आज़ादी का मान करो।

झाँसी की रानी का किस्सा
तुमको और बताते हैं।
लक्ष्मीबाई की सखियों से
तुमको आज मिलाते हैं।

मुहुँ बोली नाना की बहना
अदभुत छैल छबीली थी।
नाना संग पढ़ी थी रानी
नाना के संग खेली थी।

मात पिता की गुड़िया रानी
बस सन्तान अकेली थी।
बरछी ढाल कृपाण कटारी
उसकी सखी सहेली थी।

छक्के छूट गये दुश्मन के
खून की होली खेली थी।
भौचक्के से देख रहे सब
ऐसी अज़ब पहेली थी।

किस्से वीर शिवाजी के सब
उसको याद जुवानी थे।
खूब लड़ी रानी मर्दानी
दुश्मन पानी पानी थे।

उस नारी की अदभुत गाँथा
बच्चो फिर से गान करो।
आज़ादी हम ले आये हैं
आज़ादी का मान करो।

अब जो झंडा लाल किले पर
लहर लहर लहराता है।
वीर सपूतों की वो हमको
पल पल याद दिलाता है।

लाखों वीर सपूतों की माँ
उन पर बलि बलि जाती है।
देश की ख़ातिर मर मिटने का
उनको सबक पढ़ाती है ।

फौलादी तन देकर उनको
काँधे शस्त्र सजा देती।
भारत माँ की रक्षा करना
उनका फर्ज जता देती।

प्रेम समर्पण भाव सिखाकर
माँओं ने जिनको पाला।
भारत माँ की ख़ातिर उनने
सब कुछ अर्पण कर डाला।

सरहद पर जा लड़ते लड़ते
जय भारत की गाते थे
हँसते हँसते नैन पिता के
देश पे बलि बलि जाते थे

याद करो उनकी कुर्वानी
उनके किस्से पान करो।
आज़ादी हम ले आये हैं
आज़ादी का मान करो।

डॉ० प्रतिभा माही

Loading...
SHARE
Previous articleनैन बुझे से हाइकु Dr.Purnima Rai 
Next articleसुन लो मन की बात।!
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here