करिश्मा इस जबां का बेअसर तो हो नहीं सकता !

0
59

करिश्मा इस जबां का बेअसर तो हो नहीं सकता !

करिश्मा इस जबां का बेअसर तो हो नहीं सकता
झुक जाए बिना कारण यह सर तो हो नहीं सकता

लोग रहते हैं जहाँ बस सिर्फ़ रहने के लिए
बेशक मकां कह दो उसे घर तो हो नहीं सकता

कुछ भी पिला दो तुम हमें हम बेखौफ़ पी लेंगे
हो कितनी ही कड़वाहट ज़हर तो हो नहीं सकता

कहाँ तक जाएगी नफ़रत जगेगी एकदिन उल्फ़त
आख़िर इंसां इंसां है पत्थर तो हो नहीं सकता

बिना सोचे बिना समझे अकेले चल दिए थे हम
बिना रहबर के कोई भी सफ़र तो हो नहीं सकता

बेहतर है ज़मीनी दर हकीकत पर उतर आओ
ख़यालों की उड़ानों से गुज़र तो हो नहीं सकता

छोड़कर अब दूरियां सिमट कर पास आ जाओ
सलीका और जीने का बेहतर हो नहीं सकता

कमलेश मलिक (Dr.Kamlesh Malik)

जन्म : 3 अगस्त 1945, गांव अकड़ौली, हापुड़ (उत्तर प्रदेश)
शिक्षा : एम.ए. (हिन्दी एवं संस्कृत) पी- एच.डी.
छोटूराम आर्य काॅलेज, सोनीपत में 26 वर्ष तक हिन्दी- संस्कृत विभाग में प्रवक्ता के पद पर कार्यरत, तदुपरांत टीकाराम गर्ल्स कॉलेज, सोनीपत के प्राचार्या पद से 2004 में सेवानिवृत्त ।सम्प्रति स्वतंत्र लेखन । प्रमुख पत्र- पत्रिकाओं में कहानियाँ, लघुकथाएँ, कविताएँ,गीत, ग़ज़ल, आलेख आदि प्रकाशित ।आकाश वाणी, रोहतक से कविता-कहानियों का प्रसारण तथा कवि- गोष्ठियों एवं वार्ताओं में सहभागिता ।
प्रकाशित कृतियों में ‘चक्रव्यूह ‘,’सिर्फ अपने लिए ‘ एवं ‘एक मोर्चा और ‘ (कहानी-संग्रह), ‘शांकर वेदान्त एवं हरियाणा का सन्त साहित्य ‘ (आलोचना), ‘सम्वेदना के स्वर ‘ (कविता-संग्रह) तथा हरियाणा साहित्य अकादमी सहित विभिन्न संकलनों में रचनाएँ प्रकाशित । हरियाणा साहित्य अकादमी द्वारा आयोजित कहानी प्रतियोगिता (1983) में ‘ रिश्ता ‘ कहानी प्रथम पुरस्कृत इसके अतिरिक्त अनेक प्रतियोगिताओं में कई कहानियाँ पुरस्कृत । 2009-10 में हरियाणा साहित्य अकादमी द्वारा ‘ सिर्फ अपने लिए ‘ श्रेष्ठ कृति के रूप में पुरस्कृत ।अनेक साहित्यिक और सामाजिक संस्थाओं द्वारा सम्मानित ।

सम्पर्क : 16- बी, सुजान सिंह पार्क, सोनीपत
मोबाइल : 9466348348

Loading...
SHARE
Previous articleवक़्त की कैसी अजब ये मार है !
Next articleमानसिकता (लघुकथा)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here