नैनीताल और मुक्तेश्वर के तट पर -कमलेश भारतीय

1
129

नैनीताल और मुक्तेश्वर के तट पर
-कमलेश भारतीय
अब एक ऐसी जगह आपको ले जा रहा हूं , जिसे लेक सिटी के रूप में जाना जाता है यानी नैनी झील के आसपास बसा एक पर्वतीय क्षेत्र । बहुत खूबसूरत । प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर और गर्मी में भी ठंडक का अहसास ।
शिमला पिछले वर्ष चार बार जाने का सिलसिला बना तो परिवार ने कहा कि अब जाना है तो नैनीताल जाना है । पता नहीं कब सबब बनता कि मेरी बेटी के मामा की बेटी ने तारीख तय कर दी तीन जुलाई । आना है तो आओ नहीं तो हम तो जाएंगे । लीजिए यहां भी तारीख स्वीकार की और बेटी रोज गूगल प्रति नैनीताल की खूबसूरती दिखा कर लुभाने लगी ताकि जाने से इंकार न कर दूं । छोटी बेटी और दामाद भी तैयार हो गये । इस कारवां बनता गया । रही सही कसर हमारी साली साहिबा ने मोहाली से पहुंच कर पूरी कर दी ।
इस तरह हमारे लोग सुबह सबेरे पांच बजे कार से यात्रा के लिए निकले । जबकि दूसरे यात्री जालंधर से रेलगाड़ी में सवार हुए । दिल्ली , गाजियाबाद, साहिबाबाद आते गये और हम ट्रैफिक में रेल पेल होते रहे । इस उम्मीद में कि इनसे कुछ घंटों में छुटकारा मिलने ही वाला है ।
गजरौला के पास पंजाबियों के मोगा नाम से तीन तीन रेस्तरां हैं । जहां वाशरूम तक एयरकंडीशन्ड । वाह रे । गर्मागर्म पकौड़े न खाए तो काहे के पंजाबी और कैसा पंजाबी रेस्तरां ।
फिर शुरू हुआ सफर सपनों की झील का । काठगोदाम से लेकर नैनीताल तक का रास्ता गुलजार के गाने के बोल गुनगुनाने को मजबूर कर गया :
दिल ढूंढता हैं फिर वही
फुर्सत के रात दिन ,,,
लगभग तीस किलोमीटर का नैनीताल तक का यह रास्ता बहुत खूबसूरत हैं । उधर हमारे पाइन गार्डन से लगातार नारायण के फोन आ रहे थे कि कहां पहुंचे ? वह नैनीताल के टोल पर खडा दिन भर इंतजार करता रहा।आखिर साढे चार बजे नैनी झील के शहर पहुंचे । गाडी के रंग और नमबर के चलते नारायण हमें मिल गया और मोटरसाइकिल आगे लगा पीछे पीछे आने का संकेत देता रहा । सारे होटल , सारी रौनक छूटती गयी और हम सोचते रहे कि कहां है यह पाइन गार्डन ? आखिर पहाडी की चोटी पर बिरला स्कूल से पहले पाइन गार्डन आ गया ।
पूरे बारह घंटे के सफर के बाद गैस्ट हाउस पहुंच पाए । सामान टिकाया। कुछ राहत की साँस ली और इतने में गोपी आ गया । चाय पानी पूछने । काॅफी के प्याले और मिक्स्ड पकौड़े । सारी थकान उतर गयी । उधर रेलगाड़ी वाले सवार काठगोदाम से उतर कर किराए की टैक्सी से अपने होटल पहुंच गये ।
उनका होटल नैनी झील के पास था । इसलिए किराया भी ज्यादा । पता नहीं पहाडों के पानी से मुझे क्या हो जाता है कि पहला गिलास पीते ही लूज मोशन्ज लग जाते हैं । दवाई साथ रखता हूं और खा लेता हूं । पर इस बार सुबह तक अस्वस्थ ही रहा । इसलिए बच्चों से कहा कि आप लोग घूम फिर आओ । मैं गैस्ट हाउस में ही आराम करता हूं ।
दूसरी सुबह बच्चे चले गये और गोपी ने किसी मां की तरह दिन भर मेरा ध्यान रखा । बार बार आकर चाय और एकाध ब्रैड पीस खिला ही जाता । सच । यह पहाड की निश्छलता मैदानों में कहां ?
शाम को परिवार घूम फिर कर आ गया । कई ताल देख आए । भीमताल का नाम याद रहा । रात को होटल से भी परिवार हमारे पास ही आ गया । खूब रौनक । ऐसे लगा कि जैसे कोई शादी ब्याह हो । इतने लोग तो आजकल शादी के गीत संगीत में भी नहीं आते । अंताक्षरी खेली । कुछ पुरानी यादें और ठहाके । रात कब बीत गयी पता नहीं चला ।
सब नहाए धोए और आलू के परांठों नाश्ते के बाद नैनी झील पर पहुंच कर नयी टैक्सी लेकर मुक्तेश्वर की ओर चल दिए ।भुवाली से लेकर शयामसुख तक टैक्सी चालक हमारे गाइड का काम भी करता रहा । चाय बागान हैं श्यामसुख में । उत्तराखंड चाय का पैकेट खरीदा सबने । बागान में जाने कि टिकट बीस रूपया । कोई नहीं गया । चाय की पत्तियां देखनी हैं वह बाहर ही दिख रही हैं । फिर अंदर क्या और बाहर क्या ?
इसके बाद आए सेब के बाग । इनके अंदर जाने की की कडी मनाही । सेब पेडों पर झूल रहे हैं और हम सडक किनारे इन्हें ललचाती नजरों से देख रहे हैं । लोमड़ी की तरह सेब खट्टे हैं कह कर कुछ फोटो खींच कर चल पडे ।
एक होटल में खाना खाया । कुछ आराम किया और यात्री फिर निकर पडे मुक्तेश्वर की ओर । यहां भी कम से कम दस किलोमीटर का रास्ता बहुत ही खूबसूरत । पेडों की टहनियां दोनों ओर से गले मिलतीं प्रतीत हो रही थीं । मानो प्रकृति ने पर्यटकों के स्वागत् में वंदनवार बना दिए हों । घनी छाया ।
आखिर पहुंचे मुक्तेश्वर । सामना हुआ गाइडों की भीड से । दो सौ रूपये से कम में तैयार नहीं कोई । आखिर एक युवा डेढ सौ में मान गया । वह संकीर्ण रास्ते से महादेव का मंदिर दिखाने चला । बारिश की नमी अभी पगडंडी पर थी । पेडों के साये में महादेव के मंदिर की ओर कदम दर कदम । आधे यात्री तो गये ही नही हमारे । वहीं इंतजार करने की कह कर चाय पानी पीने लगे ।
राह में एक प्वाइंट पर गाइड रूक गया और पहाड देखने को कहा । सचमुच यह कोण पूरा महादेव के आकार का था । बस । गाइड के करने के पैसे पूरे । उसी ने हमारी फोटो खींची । फिर एक जगह पानी की बोतल का मोल तीस रूपये । मैंने कहा -यार बीस की आती है । उन्होंने इंकार नहीं किया पर सच कहा कि जितना ऊपर जाएंगे रेट बढेगा । वाह । मैंने भी नहले पे दहला मारने की तरह कहा कि हम भी इतनी ऊंचाई पर बोतल खरीदने आए हैं । इस पर दुकानदार की हंसी छूटने गयी और बात पच्चीस रूपये पर निपट गयी ।
ऊपर महादेव का मंदिर आते ही गाइड महाशय चलते बने । छोटा सा मंदिर । बहुत शांति । पहली बार किसी पुजारिन को मंदिर में पूजा करवाते और तिलक लगाते देखा । जहां हिमालय की ओर जाते समय पांडवों ने पूजा की थी । ऐसा माना जाता हैं ।
सभी बाइस गाइड बेरोजगारी का रोना रो रहे थे कि साहब दो सौ रूपये न लें तो बरसात के दिनों में खाएं कहां से ? उन दिनों तो पहाडों पर कोई नहीं आता । यही थोडे बहुत पैसे काम आते । सच । अंग्रेजी में बाल कहानियों में पंछियों के रेनी डेज के लिए अनाज एकत्रित करने और बचाने की बात याद आ गयी । यह मुक्तेश्वर स्विट्जरलैंड ने गोद ले रखा है । जगह जगह ऐसे बोर्ड लगे हैं । साफ सुथरा रखने का आग्रह भी हैं । हम अपने पहाडों को अपना कर , गोद लेकर इन्हें साफ सुथरा क्यों नहीं रख सकते ?
मुक्तेश्वर से लौटते शाम का अंधेरा उतर चुका था । नैनी झील में किनारे की रोशनियां झिलमिला रही थीं । सैलानी के तौर पर कुछ चहलकदमी की और बच्चों ने कुछ खरीदारी की । तभी मेरे दोहिते ने एक दुकान से बडा सा टोप सिर पर रख लिया और चौकन्ने दुकानदार ने कहा कि फोटो खींची तो पैसे लगेंगे । वाह । कितनी बडी बात । एक फोटो खिंचवाने और टोप लौटाने के भी पैसे । इंसानियत कहां गयी ? दुकान से इतना सामान खरीद लिया पर एक फोटो नहीं खींच सकते ?
ऊपर पाइन गार्डन से अपनी गाडी मंगवाई और पहुंचे अपने गैस्ट हाउस । सब थके थे । बस । खाना खाया और नींद आ गयी । हां , गोपी ने मेरी पत्नी के सुझाव पर पहाडी सब्जी बनाई थी । जिसका स्वाद याद रहेगा । राह भर भुट्टे भी खाए जोकि एकदम सफेद थे । पंजाब की तरह पीले नहीं । ऐसे लगा मानो बर्फ के हों ।
अब वापसी से पहले आखिरी सुबह एक घंटे के लिए फिर नैनी झील को देखने और नौका विहार का मन हुआ। जल्दी नाश्ता किया । कुछ टिप दी सभी को । हंसते मुस्कुराते चले । नैनी झील में भी अपने अपने स्थान बांट रखे हैं नौकाओं वालों ने । वाह । पानी में जाने पर भी व्यापार । यह दूसरा चेहरा है पहाड का ।
अब हमें लौटते समय जाना था लालकुआं । जहां आशा शैली ने कवि गोष्ठी रखी थी । मैंने वास्ता दिया कि हिसार का रास्ता लम्बा है । सिर्फ एक घंटे के लिए रूक सकूंगा । हल्द्वानी से एक साइड बीस किलोमीटर जाकर लालकुआं आ गया और दिन के दो बज गये थे । फोन पर सम्पर्क कर गोष्ठी स्थल पर पहुंचे । अंतरा सवि भी आई थीं । हम तीन लोग कहानी लेखन महाविद्यालय के माध्यम से परिचित हुए थे । खैर शैलसूत्र के नये अंक का विमोचन किया । अपने लघुकथा संग्रह इतनी सी बात की प्रतियां भेंट कीं और ठीक एक घंटे बाद शुभकामनायें देकर निकल पडे । दिल्ली तक वही भीड हमारे स्वागत् में थीं । सांस लेना और कार का सरकना जारी था । सच । लालकुआं जैसे छोटे छोटे साहित्यिक पडाव इस यात्रा को सुखद बना देता हैं । रात्रि के तीन बजे घर पहुंचे । सच , दिल अभी भरा नहीं । फिर आऊंगा नैनीताल ।


– 1034 बी , अर्बन एस्टेट 2 , हिसार 125005 हरियाणा ।
मोबाइल : 9416047075

Loading...
SHARE
Previous articleहिंदी गीति काव्य के युग हस्ताक्षर नीरज जी को विनम्र श्रद्धांजलि!!
Next articleलाल रंग by Dr.PurnimaRai
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here