रिपोर्टर (संस्मरण) कमलेश भारतीय

1
130

रिपोर्टर (संस्मरण) कमलेश भारतीय

मित्रो । शिमला की एक सुबह । सैर करने निकला तो नन्ही काली चिड़िया ने चहचहाते पूछ लिया -मजे में हो न । कैसा लगा इस बार आकर यहां ? मैंने भी जवाब में कहा – नमस्कार । तुम्हें फुदकते देखकर मन खुश हो गया । कल नवल प्रयास के संस्थापक विनोद प्रकाश गुप्ता के प्रेरणा उत्सव में जैसे युवा व नन्हे कवियों को देखकर हुआ था ।
-कुछ सीख भी मिली ?
चिड़िया ने एक रिपोर्टर की तरह मुझे कुरेदा ।
-हां , जिंदगी का हर पल कोई न कोई सीख देता ही है । यह सीखा कि अब उम्र के उस पडाव पर हूं , जहां दूसरों को पुरस्कृत होते देख खुलकर ताली बजा सकूं और सच्चे व खुले दिल से बधाई दे सकूं । मैंने हर रचनाकार को बधाई दी भी । सच , उम्र के इस पड़ाव पर लेने की नहीं बल्कि देने की खुशी महसूस करनी चाहिए । मेरी दादी बचपन से सिखाती रही : लेना नहीं , देना सीखो ।
वाह । कुछ और भी बताओ ।
चिड़िया तो बिल्कुल मेरी तरह पूरी रिपोर्टर की भूमिका में आ चुकी थी । सुखद । आज तक मैं ही रिपोर्टर की भूमिका में रहा । आज मुझसे भी कोई सवाल पूछ रही है ।
-कार्यक्रम के बाद गैस्ट हाउस लौट रहा था । लोकल बस स्टैंड पर कार वाले की इंतजार कर रहा था । तभी बैठा तो कुछ दूरी पर बैठी महिला ने पूछा -पहचाना ?
मैंने सोचा कि यहां शिमला में कौन हो सकती हैं ? इतने आत्मविश्वास से सवाल करने वालीं ? मैंने न में सिर हिलाया ।
उन्होंने कहा कि भाई साहब, याद कीजिए कितनी बार मिले हैं हम ? मैं मिसेज राजन् ।
-ओह । भाभी जी । नमस्कार । बहुत सालों बाद । अचानक इस तरह मिलने पर पहचान नहीं पाया ।
-भाई साहब , हिसार में ही रहते हो ?
-जी ।
-अब भी रिपोर्टर हो ?
-जी नहीं । छोड दिया ।
-अब भी लिखते हो या कोई और काम करते हो ?
मैं चौंका । कभी किसी लेखक या रिपोर्टर से यह सवाल बडा अजीब लगता है न ? लेखक या रिपोर्टर सारी उम्र लगाकर जिस जगह पहुंचा कि उसे यह पूछा जाए कि अब कोई नया रास्ता चुना या नहीं ? बडा रोचक भी लगा ।
– भाई साहब, मैं भी लेखन में बहुत रूचि रखती रही । खाना खाते समय भी एक नजर किसी कहानी को पढ रही होती । खुद लिखा भी पर इस पड़ाव पर आकर लगा कि लेखक बाहर कुछ और तथा घर में कुछ और होते हैं ।
-यह सुनकर तो बहुत हैरान हुए होंगे ? नन्ही चिड़िया ने फिर मेरा रोल निभाया । मैं अबकि हंस दिया ।
-भाई साहब । लेखक उन किरदारों के प्रति जो मुर्दा हैं , बडे चिंतित होकर कथा कहानी किस्से लिखते हैं लेकिन अपने ही आसपास के लोगों को उपेक्षित करते हैं । ऐसे दोहरे चरित्र को देखकर मूड ऑफ हो गया । बस । अब नहीं लिखती । पढती भी नहीं ।
तब तक थकी हारी मेरी पत्नी और बेटी भी पहुंच गयी थीं और यह बात उन्होंने भी सुनीं और मुस्करा दीं , मेरी ओर देखकर । जैसे उनके दिल की बात मिसेज राजन् ने कह दी हो इतने में मिसेज राजन् की बस आ गयी । वे बाॅय करतीं उसमें सवार हो गयीं
एक सवाल पीछे छोड़कर । लेखकों के लिए ।
चिड़िया उड गयी । मुझे मंथन करने का अवकाश देकर । बहुत हो गया। बताओ , कैसा लगा शिमला? जवाब आप भी दीजिए ।


-कमलेश भारतीय
9416047075

Loading...
SHARE
Previous articleमुसल्सल दिल पे चलती आरियाँ हैं!!
Next articleतंत्र और आदमी (कमलेश भारतीय )
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here