कर दिया है आग की लपटों के हवाले !

1
380

कर दिया है आग की लपटों के हवाले !

कर दिया है आग की लपटों के हवाले !
खुद ही अपने आप को!
कर दिया दूषित हवाओं के शहर में खड़ा!
खुद ही अपने आपको !
रक्षकों ने ,हम सभी ने, निज स्वार्थ में यह काम किए !
चंद रुपयों के लालच में कितने जंगल काट दिए !
यक्ष कटे तो मेघ घटे!
बरसा ने अल्प स्वरूप लिया!
ओजोन परत पर घात हुआ!
सूर्य रूप विकराल हुआ!
जंगलों को काटकर ‘,बस्तियां बसा ली !
पर सांसें घटा ली!
खुद ही अपने आप की!
खो रहे हैं गाय जल जंगल सभी!
मिटा दी विरासत !
खुद ही अपने आप की!
अंडा डावरी का खेल न रहा !
नई पीढ़ी नेट में उलझ गई!
पड़ी सभ्यता खतरे में !
तरु की हरियाली सिमट गई!
यूं तो उस शहर भवन सुंदर है!
पर पवन प्रवाह प्रदूषित है!
सावधान मनुष्य संकट है बड़ा!
प्रकृति बहुत आक्रोशित है!
लगाएं कल्पतरु लाएं हरियाली!
फिर दें जीने का अधिकार!
खुद ही अपने आप को!
पेड़ लगाएं करें संरक्षण!
हरियाली का दान करें फिर !
खुद ही अपने आप को!
कर दिया है ,आग की लपटों के हवाले !
खुद ही अपने आप को !
कर दिया दूषित हवाओं के जहर में खड़ा!
खुद ही अपने आप को!

 अजय शंकर तिवारी संचालक आदर्श इंग्लिश मीडियम स्कूल साईं खेड़ा तहसील गाडरवारा जिला नरसिंहपुर मध्य प्रदेश पिन नंबर 487 661 मोबाइल नंबर 9993606232

Loading...
SHARE
Previous articleकितना कठिन हुआ (गज़ल)
Next articleआस की डोर( चोका)by Dr.Purnima Rai
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here