हिन्दी के लिए जनसमर्थन मांगेंगे डॉ. जैन

1
86

*हिन्दी के लिए जनसमर्थन मांगेंगे डॉ. जैन*

*देशभर में भ्रमण कर मातृभाषा उन्नयन संस्थान लोगों को करेगा हिन्दीभाषा के लिए जागरुक*

इंदौर | हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के समर्थन के लिए मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ ने सोमवार से जनसमर्थन अभियान की शुरुआत की।

 

देश की 100 बड़ी साहित्यिक हस्तियों के साथ लगभग हर राज्यों के मुख्यमंत्रियों से मिलेंगे डॉ. जैन व उनका दल।

बता दें कि हस्ताक्षर बदलो अभियान को एक साल पूरे होने पर संस्थान के अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ व महासचिव डॉ. प्रीति सुराना ने हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए जनसमर्थन अभियान की शुरुआत की है।

इस अभियान के तहत संस्थान के अध्यक्ष देश की 100 बड़ी साहित्यिक हस्तियों से मिलेंगे और उनका सम्मान भी करेंगे इसके अलावा संस्थान के पदाधिकारी, प्रदेश अध्यक्षों समेत संस्थान के 1000 वरिष्ठ भाषासारथी, हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए 10 हजार से ज्यादा प्रसिद्ध व्यक्तियों से मुलाकात करेंगे।

*इससे पहले इन हस्तियों से मिल चुके हैं जैन*

गौरतलब है कि सबसे पहले डॉ.अर्पण जैन अविचल ने हरिद्वार जाकर स्वामी रामदेव जी से मुलाकात की थी, उसके बाद वरिष्ठ पत्रकार डॉ.वेद प्रताप वैदिक से दिल्ली जाकर मिले थे, अग्रज कवि राजकुमार कुम्भज का भी समर्थन प्राप्त किया और फिर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केन्द्रीय मंत्री उमा भारती, रामदास आठवले से मिलकर भी हिन्दी के लिए समर्थन मांगा और उनको हिन्दीग्राम व मातृभाषा उन्नयन संस्थान की उपलब्धियों के बारे में बताया था।

इसी दौरान संस्थान की महासचिव डॉ. प्रीति सुराना भी साथ रही व लगातार साहित्यकारों का समर्थन प्राप्त कर रही है। उनके साथ संस्थान का एक दल सक्रिय है।

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ का लोगों से संपर्क करने का एक अपना तरीका है। हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के महाअभियान  को देखते हुए डॉ. जैन व डॉ सुराना सहित राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संजय कोचर, राष्ट्रीय सचिव कैलाश बिहारी सिंघल, कोषाध्यक्ष समकित सुराना, कार्यकारिणी सदस्य कीर्ती वर्मा, बृजेश शर्मा विफल, पिंकी परुथी, शिखा जैन, अदिति रुसिया, मृदुल जोशी के साथ म.प्र. के प्रदेश अध्यक्ष कमलेश कमल, राजस्थान से रिखबचंद राँका, कश्मीर से नसरीन अली ‘निधी’, नीना जोशी आदि ने युद्धस्तर पर सक्रिय होकर देश की तमाम बड़ी बड़ी साहित्यिक व राजनैतिक हस्तियों से मुलाकात करने का अभियान चलाया है।आने वाले दिनों में डॉ.जैन व दल कुछ प्रमुख लोगों से मुलाकात का सिलसिला जारी रखेंगे। उक्त जानकारी संवाद सेतु रोहित त्रिवेदी ने दी ।

Loading...
SHARE
Previous articleपुराने शहरों के मंजर निकलने लगते हैं..तरही गजल byDr.Purnima Rai
Next articleमित्रता ( विश्व पर्यावरण दिवस )विशेष by Dr.Purnima Rai
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here