पिता का विश्वास

2
119
 
लघु कहानी – 
                       पिता का विश्वास

       अपने पिता का अंतिम संस्कार कर लौट रहे सिद्धार्थ की आँखों से अविरल धारा वह रही थी । वह अपने साथ वापस हो रही भीड़ के आगे – आगे चल जरूर रहा था पर उसका मन उसी तेजी से पीछे भाग रहा था।  साथी उसके कंधे पर हाथ रखकर सांत्वना दे रहे थे पर वह जानता था ये आंसू दरअसल उसके मन में चल  रहे प्रायश्चित के आँसू भी हैं । 
      उसे रह रह कर अफ़सोस हो रहा था कि वह अपने पिता के कहे अनुसार क्यों नही चला। क्यों उसने वह सब किया – जिनसे पिता हमेशा दूर रहने के लिए कहते थे । 
       बेचैन मन लिए वह जैसे तैसे थके कदमों से घर पहुंचा पर अब उसे कोई कुछ बोलने वाला नही था । कोई उसे प्यार और निस्वार्थ भाव से समझाने वाला नही था। वह एकांत में जाकर फिर फूट फूट कर रोने लगा ।     उसे लग रहा था कि – हो न हो , उसका विजातीय विवाह ही पिता की मृत्यु का कारण बना है । अभी पिछले महीने ही तो उसने पिता को बताए बिना अपनी मर्जी से मंदिर में शादी की है । एक बार भी उसने पलट कर पिताजी का आशीर्वाद लेना उचित नही समझा और शहर से बाहर चला गया । बिना यह सोचे कि उसके बगैर मां पिताजी का क्या हाल होगा । 
        कैसा डर था यह , कैसी सम्वादहीनता पसरी थी पिता – पुत्र के बीच  जिसने उसे अपने पिता का सामना भी नही करने दिया । काश ! वह एक बार तो अपने मन की बात पिता से कहता । पिताजी तो उससे कितना प्यार करते थे …और मां । मां से ही बता देता । शायद , नहीं …नहीं …पक्के से पिताजी उसकी शादी मनोरमा से ही करा देते । वे तो जात -पांत मानते ही नही थे । क्या वे अपने इकलौते पुत्र की बात नही मानते । जरूर मानते । उसने ही गलती की है जिसकी इतनी बड़ी सजा उसे मिली है। अब वह माफ़ी मांगे भी तो किससे मांगे ? क्या समय लौट कर आ सकता है। 
        तभी मनोरमा की मार्मिक आवाज से सिद्धार्थ की तन्द्रा टूटी । वह कह रही थी – अपने को सम्हालो सिद्धार्थ । अब मांजी को देखो । उनका रो रो कर बुरा हाल हो रहा है। बार बार अचेत हो रही हैं । मैने डॉक्टर अंकल को फोन कर दिया है । वे आते ही होंगे । अब चलो भी । कब तक मां का सामना नही करोगे । मां ने हमें माफ़ कर दिया है। मुझे बेटी कहकर गले लगाया है। अब से मैं ही उनकी देखभाल करूंगी। आप जरा भी चिंता न करें और मां से मिल लें ।
     मनोरमा की बातों से सिद्धार्थ थोड़ा सम्हला। खुद को संयत कर वह मां के कमरे में उनसे लिपट कर रोने लगा । 
      तीसरे दिन , सिद्धार्थ ने जब पिताजी की अलमारी खोली तो उसमें एक खत मिला जिसके ऊपर लिखा था- प्रिय बेटे सिद्धार्थ। 
     थरथराते हाथों से सिद्धार्थ ने चिट्ठी खोली । 
     लिखा था – सिद्धार्थ । तुम इतने बड़े कब से हो गए कि – अपने जीवन का निर्णय खुद कर लिया । मुझे बताया भी नही । एक बार मुझसे या अपनी मां से कहकर तो देखते । कितनी धूमधाम से करते हम तुम्हारी शादी । बचपन से आज तक तुम्हारी खुशियां ही तो देखी है । जानता हूँ – तुम जिद्दी स्वभाव के रहे हो लेकिन यह नही जानता था कि तुम मुझसे इतना डरते हो । नहीं जानता – तुमने बिना बताए शादी मेरे डर की वजह से की या कोई और कारण था । यदि हर बेटा ऐसा करेगा तो माता पिता का तो अपने बच्चों पर से विश्वास ही उठ जाएगा । 
    खैर , जो हुआ सो हुआ । जब भी घर लौटो । इस विश्वास से लौटना कि यह घर तुम्हारा है । हम तुम्हारे हैं।
    अंत में लिखा था – काश ! तुम मेरे रहते लौट आओ। तुम और तुम्हारी माँ नहीं जानते , मुझे ब्लड कैंसर है। यदि तुम्हारे लौटने से पहले ही मैं दुनिया छोड़ दूँ तो मन में यह बोझ लेकर नहीं जीना कि मेरी मृत्यु तुम्हारे कारण हुई है। बहू को मेरा आशीष।
अपनी माँ का ख्याल रखोगे , इतना विश्वास है मुझे। 
– तुम्हारा पिता ।


          – देवेन्द्र सोनी , इटारसी । 
            9827624219
            9111460478
  
Loading...
SHARE
Previous articleनील गगन में उड़ती चिरैया by Dr.Purnima Rai
Next articleयथार्थ की दहलीज पर!
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here