वो तो सपना था (लघुकथा)

1
83

वो तो सपना था (लघुकथा)

यूं अचानक शशि को देखकरसकपका गयी, रिया! और डायरी को तकिये के नीचे छुपाने लगी । उसे यूं करता देख शशि मुस्कुरा दिया एवं बोला,”क्यों छुपा रही हो डायरी ? “मेरी बुराई लिख रही थी क्या डायरी में!
उसकी इस बात पर रिया झेंप सी गयी व मुश्किल से बोल पायी ,नहीं वो मैं, वो मैं ………

क्या वो मैं वो मैं । कहता पास आया रिया के और हाथ में ली हुई किताब उसकी तरफ बढ़ाते हुए बोला,” लो तुम्हारी वो मैं वो मैं का जबाब।” अब खोल कर पढ़ो भी, इस शानदार किताब को !जानती हो परसों ही प्रकाशित हुई और अब तक लाखों प्रतियां बिक चुकी हैं ।

रचनाकार ने क्या खूब चित्रण किया है जीवन का, “वाह” ।
सच कहूं रिया मुझे तो प्यार हो गया है लिखने वाली से ,नाम में ही जादू है कहता शशि कनखियों से देख भी रहा था रिया को ,पर रिया तो मानो उसकी बात ही नहीं सुन रही थी । किताब के पन्नों को पलट-पलट ज्यों-ज्यों पढ़ रही थी झर झर आंसू  गिर रहे थे । अंत में रचनाकार का नाम पढ़ते ही मानो सब्र का बांध टूट सा गया व खड़ी हो सीने से लग बस इतना ही कह पायी ____
शशि पर” वो तो एक सपना था ” ।

जानता हूं पगली, तुम्हारे हर सपने को ।रोज तुम डायरी लिखती थी और चुपके से मैं पढ़ता था तुम्हारे साहित्य को लेकर जुड़ाव को देख मैं खुद को रोक न पाया और सपने को हकीकत का रुप दे दिया इस किताब के जरिये ।

वो सपना था पर ये हकीकत देखो किताब का नाम भी हकीकत रखा है मैनें ।अरे धड़ल्ले से बिक रही है किताब, मेरी लेखिका बीवी । कहता सर को चूमता शशि आखों में ढेर सारे प्यार लिये बोला चलो ,तुम्हारी इस हकीकत के लिए पार्टी तो बनती है क्यों?
उसके इस अंदाज पर शर्मा गयी रिया व दोनों हथेलियों से चेहरे को छुपा बोली “धत्त” व खुद को शशि से भीतर तक जुड़ी महसूूूस करके तैयार होने चल दी सपने से हकीकत में जीने के लिए।

रुबी प्रसाद
सिलीगुड़ी

Loading...
SHARE
Previous article“मन के किवाड़ खोलकर नारी करे सफर “”अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं “संपादित by Dr.Purnima Rai
Next articleअंतर्राज्यीय भाषा समन्वय से भारत में स्थापित होगी हिन्दी
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here