अन्तरा शब्दशक्ति सम्मान 3 फरवरी को, डॉ.वैदिक होंगे मुख्य अतिथि*

0
57
*अन्तरा शब्दशक्ति सम्मान 3 फरवरी को, डॉ.वैदिक होंगे मुख्य अतिथि*
#8 साझा संकलन व एक अन्य पुस्तक सहित कुल 9 किताबों का विमोचन।
#देशभर से आए 70 साहित्य सारथियों को सम्मानित किया जाएगा।
#50 साहित्य साधकों को मिलेगा भाषासारथी सम्मान।
इंदौर । साहित्य के क्षेत्र की ख्यात संस्था अन्तरा शब्दशक्ति व हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए कार्यरत *हिन्दीग्राम* व मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा 3 फरवरी 2018, शनिवार को इंदौर में समारोह आयोजित किया जा रहा है ।
समारोह में बतौर मुख्य अतिथि प्रखर लेखक, चिंतक, भारतीय और अंतरराष्ट्रीय राजनीति के विश्लेषक डॉ. वेद प्रताप वैदिक व अध्यक्षता राष्ट्रीय कवि व राजनेता सत्यनारायण सत्तन जी करेंगे । साथ ही अति विशिष्ट अतिथि
के रुप में प्रभु जोशी जी (ख्यात कहानीकार व चित्रकार, इंदौर), प्रवीण कुमार खारीवाल जी (अध्यक्ष- स्टेट प्रेस क्लब, मध्यप्रदेश)
व आचार्य नवीन संकल्प जी (पतंजलि योगप्रचारक प्रकल्प प्रमुख, हरिद्वार) शामिल होंगे।
अन्तरा-शब्दशक्ति की संस्थापिका डॉ प्रीति सुराना ने बताया कि आयोजन का मुख्य उद्देश्य हिन्दी के लेखन को प्रोत्साहित करना है, ताकि उत्कृष्ट लेखन होता रहे । इनके अतिरिक्त हिन्दीग्राम के संस्थापक डॉ.अर्पण जैन ‘अविचल’ ने हिन्दी हस्ताक्षर करने हेतु लोगो में जागरुकता के साथ ही हिन्दी साहित्य के सारथियों को सम्मानित करने का प्रयोजन बताया । हिन्दी के प्रचार के साथ संस्था हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने हेतु प्रतिबद्ध है व देशभर में हस्ताक्षर बदलो अभियान का संचालन कर रही है । इस आयोजन में देश के करिब 120 साहित्यकार शामिल होंगे जिनका सम्मान होना है। साहित्यकारों के सम्मान के अतिरिक्त 9 पुस्तकों का भी विमोचन होगा। उक्त जानकारी संस्थान के संवाद सेतु रोहित त्रिवेदी ने दी ।

Loading...
SHARE
Previous articleसक्सेस पब्लिक स्कूल में मनाया वार्षिकोत्सव!!
Next articleप्रभु जी,तुम चंदन, हम पानी (संत रविदास जयंती पर विशेष)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here