इंडिया एक्सीलेंस प्राइड अवार्ड से डॉ जैन व डॉ सुराना सम्मानित

0
157
 

इंडिया एक्सीलेंस प्राइड अवार्ड से डॉ जैन व डॉ सुराना सम्मानित

दिल्ली स्वामी विवेकानद को समर्पित इंडिया एक्सीलेंस प्राइड अवार्ड एवं नेशनल चेंजमेकर्स कॉन्क्लेव-2018 में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी की अध्यक्षता व बी.पी.सिंह जी-(पूर्व राज्यपालसिक्किमसुश्री एरा सिंघल,  पी.आर त्रिवेदी जीमनहर वर्जी भाई झालाके आतिथ्य में इंदौर के डॉ. अर्पण जैन अविचल व साथी डॉ.प्रीति सुराना जी को भारत में हिन्दीभाषा के गौरव के स्थापना हेतु इंडिया एक्सीलेंस प्राइड अवार्ड प्रदान किया गया उक्त सम्मान सोमवार दिनांक 15 जनवरी 2018 को इंडिया इंटरनेशनल सेंटरलोधी रोडदिल्ली में दिया गया |

संस्था प्रतिमा रक्षा सम्मान समिति व आईलिड चेन्ज फॉउंडेशन ने साझा रूप से आयोजन कर देश की लगभग १०० से अधिक प्रतिभा जो राष्ट्र में कुछ बदलाव लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं उन्हें सम्मानित किया संस्था के अध्यक्ष नरेंद्र अरोरा हैं जो देश भर में प्रतिभा पल्लवन हेतु प्रतिबद्ध हैं |

वर्तमान में संस्था मातृभाषा उन्नयन संस्थान व हिन्दीग्राम  हिन्दी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए देशभर में हस्ताक्षर बदलो अभियान चला रही हैं|

दृष्टिकोण का विमोचन लेखक मंच पर

स्त्री सक्षमीकरण के सशक्त हस्ताक्षर डॉ. प्रीति सुराना की किताब दृष्टिकोण‘  का विमोचन विश्व पुस्तक मेले में १२ जनवरी को शिवना प्रकाशन द्वारा लेखक मंच पर  देश के वरिष्ठ पत्रकार तथा नवभारत टाइम्स के संपादक श्री नीरेन्द्र नागर की अध्यक्षयता में व सुप्रसिद्ध लेखिका डॉ प्रज्ञा के विशिष्ट अतिथि आथित्या में संपन्न हुआ साथ ही मंचासीन रहे वरिष्ठ साहित्यकार एवं कथाकार श्री पंकज सुबीरडॉ नुसरत मेंहदीवरिष्ठ पत्रकार डॉ मुकेश कुमार। कार्यक्रम का संचालन आज तक टीवी चैनल के सुप्रसिद्ध एंकर श्री सईद अंसारी ने किया। पुस्तक की भूमिका फिल्म अभिनेता आशुतोष राणा ने लिखी हैं कार्यक्रम में मुकेश दुबेशब्द मसीहा केदार नाथडॉ अर्पण जैन अविचलराज बोहरेपवन अरोरागुलशन प्रेम आदि उपस्थित रहे |


काव्यपथ‘ व कतरा-कतरा मेरा मन‘ विमोचित

नेशनल बुक ट्रस्ट द्वारा प्रगति मैदान दिल्ली में आयोजित ८ दिवसीय विश्व पुस्तक मेले के छटवे दिन हॉल १२ए में के बी एस प्रकाशन के स्टाल इंदौर के डॉ. अर्पण जैन अविचल‘ के काव्य संग्रह काव्यपथ‘ व वारासिवनी की साहित्यकार डॉ. प्रीति सुराना के  लघुकथा संग्रह कतरा-कतरा मेरा मन‘ का विमोचन साहित्यकार मुकेश दुबेकथाकार कैदारनाथ शब्दमसीहा‘, कवि पवन अरोरा के विशेष आतिथ्य में साथ ही प्रकाशक संजय साफी व डॉ भावना शर्मा की उपस्थिति में संपन्न हुआ विमोचन के दौरान साहित्यकार  मुकेश दुबे ने डॉ अर्पण जैन के अभियंता होकर काव्य सृजन को सराहा वही शब्दमसीहा ने कतरा-कतरा मेरा मन की लघुकथाओं पर प्रकाश डाला |

हिन्दीग्राम को मिला डॉ. वैदिक जी का स्नेह

हिन्दी साहित्य के नक्षत्रऔर माँ अहिल्या की नगरी के गौरव आदरणीय डॉ. वेद प्रताप वैदिक जी से हिन्दीग्राम व हिन्दी के प्रचार प्रसार हेतु भेंट हुई डॉ. वेद प्रताप वैदिक ने हिन्दीग्राम के प्रकल्प और अभियान को समझकर कहा क़ि तुम्हें हिन्दी के लिए काम करते देख वो खुशी मिल रही है अर्पणजो पुत्र जन्म पर मिलती हैक्योंकि हम अब यदि ईश्वर के पास चले भी गए तो सुकून रहेगा कि तुम वो जिम्मेदारी निभा रहे हो|”

वैदिक जी ने पुस्तक काव्यपथ‘ व कतरा-कतरा मेरा मन‘ भी स्वीकार कीसाथ ही हिन्दीग्राम को बहुत शुभाषीश  भी दिया इसी दौरान पंतजलि योगप्रचारक प्रकल्प के आचार्य नवीन जी साथ ही रहे |

डॉ अर्पण जैन अविचल ,इंदौर

 

Loading...
SHARE
Previous articleयुवा कवि विनोद सागर को मिला साहित्य साधक सम्मान!!
Next articleबसंत में कोकिला  (बसंत पंचमी की हार्दिक बधाई)by Dr.Purnima Rai
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here