नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!! 

1
171

 मेरी ओर से नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!!

1* 
नवल रूप
धरा आज पक्षी ने
नव वर्ष पे !

2*
रंग-बिरंगी
अधखिली कलियाँ
नव उमंग !!

 3*
जग के मेले
सूर्य भी सुनहरी
नवल भोर!!

4*
मन की बात
कहता दिनकर
नव कली से!!

5*
नववधू सी
उल्लासमय भोर
नववर्ष की!!

6*
नव रश्मियाँ
महकती दिशायें
कर्म पौध से!!

7*
बीती रजनी
दिल से हो मिलन
नये साल में!!

8*
नव निर्माण
उम्मीदों का सूरज
नव शज़र!!

9*
चहकी धूप
मचली तितलियाँ
नवेली सोच!!

10*
नव आलोक
गहन अँधकार
सिमट गया!!

11*
नये सूर्य से
हुआ रूपांतरण 
वसुन्धरा का।

12*
नव वधू सी
किरणें उमंगों की
खिली प्रकृति।

13*
हुई सवेर
दृढ़ संकल्प लिए
जागी चिड़िया।

14*
नया उजास
द्वार खटखटाए
दिखे मुस्कान।

15*
प्रेम खुश्बुएं
आ रहीं हैं फूलों से
नव तरंग!!

डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर (पंजाब )

Loading...
SHARE
Previous articleअलविदा 2017 !!by Dr.Purnima Rai
Next articleआज नव निर्माण के हम गीत गाएँ।
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

  1. नव वर्ष की शुभकामना के हाइकु गम्भीर,अर्थपूर्ण,एवम् सकारात्मक दृष्टि सम्पन्न हैं।द्वार पर नया प्रकाश स्वागत हेतु उपस्थित है,चिड़िया पंख फैला कर नई सुबह का स्वागत कर रही है,इन सब भावों में जीवन का गहन सन्देश छुपा है।बहुत बहुत बधाई एवम् नव वर्ष की शुभकामनाएँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here