स्वास्थ्य के प्रति कितने जिम्मेदार हम 

0
148

स्वास्थ्य के प्रति कितने जिम्मेदार हम 

मानव जीवन की सबसे बड़ी और अनदेखी पूंजी यदि कोई है तो वह है – हमारा स्वास्थ्य ! अनदेखी इसलिए कहा , क्योंकि हम जब तक हम  बिस्तर न पकड़ लें या किसी रोग से गम्भीर रूप से ग्रसित न हो जाएं तब तक , कम से कम अपने स्वास्थ्य की चिंता तो नही ही करते हैं । हां , केवल अपने बच्चों की स्वास्थ्य समस्याओं के प्रति हम जरूर अधिक जिम्मेदार होते हैं ।
स्वास्थ्य के सम्बन्ध में स्वामी विवेकानन्द जी ने कहा है – ” तुम गीता का अध्य्यन करने के बजाए फुटवाल के जरिए स्वर्ग के अधिक निकट रहोगे ” आशय यह – अपने लक्ष्य ( गोल ) के पीछे दोड़ो मगर अपने स्वास्थ्य को पीछे मत छोड़ो । कितना सही कहा है – स्वामी जी ने। इस संदर्भ में मुझे एक दृष्टांत याद आता है – एक व्यक्ति के मन में नगर सेठ कहलाने का भाव आया और उसने अपने इस विचार को अपना लक्ष्य बना लिया । दिन रात अथक परिश्रम किया और वह नगरसेठ बन भी गया । उसकी वाह वाही होने लगी और वह आदरणीय हो गया लेकिन इस अथक मेहनत के दौरान उसने अपने परिवार और स्वास्थ्य का बिलकुल भी ध्यान नही रखा । हुआ यह कि असमय ही उसका शरीर शिथिल पड़ गया और कई लाइलाज बीमारियों का शिकार होकर अंततः चल बसा। उसकी सारी दौलत भी उसके काम न आ सकी । यदि वह अपने लक्ष्य को सेहत का ध्यान रखते हुए पाता तो क्या वह असमय काल का शिकार होता ? बस अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत होने के लिए विवेकानन्द जी का वाक्य और यह दृष्टांत ही पर्याप्त है । समय रहते सम्हल जाएँ । जीवन के सारे उद्देश्य पूर्ण करें किन्तु अपने स्वास्थय की अनदेखी न करें क्योंकि हमारे अस्वस्थ्य होने के लिए कोई और नही हम ही जिम्मेदार होते हैं । समझना तो होगा ही इसे।
वर्तमान में प्रत्येक व्यक्ति की जिंदगी भागमभाग और अथक मानसिक तथा शारीरिक श्रम से जूझ रही है। घर के बड़ों को यदि बेहतर परिवार संचालन के लिए अपने स्वास्थ्य को दांव पर लगाना पड़ रहा है तो बच्चों को भी अपने कैरियर की सुदृढ़ता का मानसिक दवाब रहता है जो कहीँ न कहीं स्वास्थ्य को तो प्रभावित करता ही है। कई बार छोटी मोटी स्वास्थ्य सम्बंधी परेशानियों को हम अनदेखा कर देते हैं जो कालांतर में हमारे लिए बड़ी मुसीबत का कारण बनती है। इनसे समय रहते बचना चाहिए।
अच्छे स्वास्थ्य के जो जरूरी नियम बताए गए हैं , आज किसी भी कारण से हम उनका पालन नही कर पाते हैं । जिस अनुपात में खान पान होना चाहिए वह भी अब नही हो पाता है । हमारी दिनचर्या ने इसे पूरी तरह से अव्यवस्थित कर दिया है । बिगड़ते स्वास्थ्य के अनेक कारण होते हैं , यहां मैं उनकी चर्चा नही करूँगा क्योंकि आज यह सब जानकारियां  हमारी उँगलियों पर मोबाईल/कम्प्यूटर ने उपलब्ध करा दी है बावजूद हम पढ़कर, जानकर भी उनका पालन नही करते हैं जबकि यह अत्यंत जरूरी है।
कुल मिलाकर कह सकता हूँ कि – हमारे स्वास्थ्य का ध्यान हमको समय पर ही रखना चाहिए । इसके लिए कोई और नही हम ही शत प्रतिशत जिम्मेदार हैं ।


– देवेंन्द्र सोनी, इटारसी।

Loading...
SHARE
Previous articleहिन्दी के सम्मान के लिए ‘शिक्षालय की ओर हिन्दीग्राम’*  
Next articleअलविदा 2017 !!by Dr.Purnima Rai
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here