एक अनूठा अभिनेता:कमल हसन (जन्मदिन 7नवंबर)

0
134

एक अनूठा अभिनेता..कमल हसन

बात 1981 की है और मैं महज़ 5वी कक्षा का विद्यार्थी था..फिल्मो की कुछ-कुछ समझ थी कि गोल्डन जुबली क्या है ,सिल्वर जुबली क्या है..इसी दौर में एक फ़िल्म रिलीज़ हुई नाम था “एक दूजे के लिए”…सुना है कि पहले 3-4 हफ्ते नामात्र लोग ही इसे देखने गए थे और फिर अचानक सिनेमाघरों में इसे देखने के लिए धक्का मुक्की भी हुई और टिकट ब्लैक भी हुई और यह फ़िल्म सुपर डुपर हिट हुई..यह था अभिनेता कमल हसन का हिंदी फिल्मों में शुरुआती करियर…
पुरस्कारों की दृष्टि से पद्मश्री धारक कमल हासन, भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे अधिक सम्मानित अभिनेता हैं। उनके नाम सर्वाधिक राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार तथा सर्वश्रेष्ठ बाल कलाकार पाने वाले अभिनेता होने का रिकॉर्ड दर्ज है। इसके अतिरिक्त कमल हासन, पांच भाषाओं में रिकॉर्ड फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार धारक हैं….ये सभी सम्मान यह बताने के लिए काफी हैं कि कमल हसन किस स्तर के कलाकार हैं..सन 2000 में इन्होंने खुद को सम्मानों से मुक्त करके भावी पीढ़ी के लिए रास्ता छोड़ा है….
कमल हसन का जन्म 7 नवम्बर 1954 को एक वकील श्रीनिवासन और राजलक्ष्मी के घर रामनाथपुरम के परमकुंडी गांव में हुआ और बाल कलाकार के रूप में इन्होंने सन 1961 में पहली फ़िल्म की…बस उसके बाद यह दौर आज तक जारी है…
यह छोटा सा आर्टिकल मैंने आज इनके जन्मदिन पे इसलिए लिखा है क्योंकि संजीव कुमार जी के बाद कमल हसन एक ऐसा कलाकार है जिसने अदाकारी के गहरे तल को छुआ है…एक मूक फ़िल्म जरूर देखिएगा “पुष्पक”..कमाल की अदाकारी के दर्शन है…एक फ़िल्म “सदमा”..टिकट खिड़की पे फ्लॉप हुई ,लेकिन कमल हसन की ज़िंदगी की सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म है..1985 में सागर फ़िल्म..क्या रोल किया कमल हसन ने..हिंदी फिल्मों के इतिहास में केवल एक बार ऐसा हुआ है कि किसी कलाकार को best actor और best supporting-actor का पुरस्कार मिला हो और वो भी एक ही फ़िल्म के लिए…एक फ़िल्म “अप्पू राजा”..क्या किरदार निभाया कमल ने बौने का..और याद कीजिये “हिंदुस्तानी”का वो बूढ़ा देशभक्त…एक फ़िल्म जिसने कॉमेडी की दुनिया में कमाल कर दिया वो थी “चाची 420”..यह फ़िल्म अंग्रेजी फ़िल्म mrs doubtfire की नकल थी ..लेकिन वो औरत बना कमल हसन औरतों को भी महिला अभिनय में कहीं पीछे छोड़ गया…हिन्दोस्तान के इतिहास में केवल कमलहसन ऐसा अदाकार है जिसने एक ही फ़िल्म में 10 रोल निभाए है…फ़िल्म का नाम है दशावतार….
दोस्तो !कमल हसन की निजी ज़िन्दगी कुछ विवादित है क्योंकि इनकी 3 शादियां (वाणी गणपति,सारिका और वर्तमान पत्नी गौतमी) है और श्रुति,अक्षरा और सुब्बुलक्ष्मी नामक 3 बेटियां हैं…मौजूदा समय में राजनीति में जगह बनाने जा रहे कमल हसन अपने कुछ धार्मिक बयानों के कारण चर्चित और आलोचना का विषय बने हुए है…लेकिन हर किसी का अपना एक निजी जीवन और निजी राय होती है…मेरे विचारों के अनुसार मैं केवल किसी के कर्म और प्रतिभा के प्रति अधिक आंकलन करता हूं.. क्योंकि केवल आप अपने कर्म के कारण समाज में जगह बनाते है..”लता अनेक महिलाओं का नाम होगा,लेकिन दुनिया केवल एक लता को जानती है..वो भी उसकी आवाज़ के कारण,उसके कर्म के कारण “..

राजकुुुमार राज

Loading...
SHARE
Previous articleअनमने पल(डॉ.यासमीन ख़ान)
Next articleआंधियों की धुन पे’ गाती ज़िंदगी !!
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here