मगरूर (देवेंन्द्र सोनी)

0
173
मगरूरआते हैं जब 
इस दुनिया में हम
कितने सहज , सौम्य और 
निश्छल होते हैं ।

धीरे-धीरे होते हैं प्रभावित
और अपनाने लगते हैं 
उस वातावरण को , जो
कराता है हमसे मनमानी ,
बनाता है क्रमशः हमको मगरूर ।

सिखाने लगता है
दुनियादारी और
बोने लगता है 
 मन में हमारे 
बीज मगरूरता के ,
करते रहने को मनमानी।

हाँ , हर कहीं भी नहीं पनपते हैं 
मगरूरता और मनमानी के ये बीज 
इन्हें चाहिए होता है
वह खाद – पानी भी 
जो मिल जाता है आसानी से
हमारे ही आस- पास  के परिवेश में ।

बदलते युग में मिल रही
मनचाही सुविधाएं भी 
एक बड़ा कारण होता है
मगरूर और मनमौजी होने का हमारे 
उन सबके बीच जो
वंचित हैं इन सुविधाओं से ।

मगरूर या मनमर्जी के होना 
कोई अच्छी निशानी नही है
व्यक्तित्व के हमारे
मगर करते कहाँ हैं 
परवाह हम इसकी ।

यही लापरवाही, अनदेखी
कर देती है हमारे अंदर 
मगरूर और मनमर्जी के 
पेड़ को इतना बड़ा
कि जब वह होता है फलित तो
देने लगता है ऐसे विषैले फल
जो करते हैं , केवल और केवल
हमारा ही संहार ।

सोचना और लाना होगा 
वह परिवर्तन जो 
बचा दे हमको 
मगरूरता या मनमर्जी के इस पेड़ से 
और सफल कर दे , 
जीवन हमारा ।


          – देवेंन्द्र सोनी, प्रधान संपादक
           युवा प्रवर्तक , इटारसी ।
           

 

 

Loading...
SHARE
Previous articleडूबा नहीं है सूर्य अभी !
Next articleमारुति  वंदन ( प्रमोद सनाढ़्य “प्रमोद”)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here