दर्पण/आईना ( हाइकु)by Dr.Purnima Rai

0
381
Dr.Purnima Rai,Asr
1.
दर्पण देखूँ
बाहरी आकर्षण
धूमिल अक्स!!
2.
काँच के जैसे
टूट जाते रिश्ते
हँसे आईना!!
3.
अक्स तुम्हारा
दर्पण के मानिंद
शुभ्र उज्ज्वल !!
4.
दरार आई
अहं भरा मानव
बोले दर्पण!!
5.
मौन आईना
टूट गये सपने
पल छिन्न में!!
6.
श्वेत दर्पण
चमकती धूप में
लहर क्रीड़ा!!
7.
शीशा निहारे
भीतरी मन ढूँढे
बावरा तन!!
8.
तेरा चेहरा
है जीने का सबब
आईना चाहूँ!!
9.
मोम सा दिल
काँच सा है नाजुक
दूर तपिश!!
10.
दर्पण संग
बतियावै रात में
चाँद है दूर!!
– डॉ०पूर्णिमा राय
Loading...
SHARE
Previous articleईद ,दिवाली हों या होली
Next articleआँगन (दोहेby Dr Purnima Rai
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here