ईश्वर पैदा किए जाते हैं !

0
161

——-  ईश्वर पैदा किए जाते हैं ——

एक लड़की ने बहुत मारा मुझे !!

वह बहुत सुंदर थी
और बहुत बोलती भी थी
लास्ट बार मैंने उसे रसोई में घुसते देखा
वह हल्दी की तरह हरी थी,

उसे यकीन न हो भले ही
और यकीन दिलाना मेरा काम भी नही
की
मर्म और विचार…
ये बन्द कमरों में घुटने वाली दुनिया की सबसे सुंदर चीज़े हैं,
जब आधी रात के बाहरवें पहर में 
कोई कुत्ते जैसे जीव गली में भोंकते है
तो मैं थूक देना चाहता हूँ,
दुनिया के तमाम वादों 
और “नीतियों” पर।

तुम्हारे सर पर नही उगाई गई है घास,
आदमी नही मरता दुखी होकर
और
देखना-सुनना किसी पंखे से नही चिपका होता।
आदमी के पास आदमी,
औरत के पास औरत
और दीवार के पास दीवार
जब मेरे सीनें में चाकू मारा उसने,
मैं भागकर गुलाल लाया रसोई से
और उसके माथे पर रगड़ा, 
वह और भी सुंदर होकर नदी की तरह लिपटी मुझसे, 
जबकि नदी होना, उसके लिए 
रसोई से होकर नही आया।

बेहतर होता अगर 
हम तंजश्निगारी से कविताएँ लिखते,
हमारी माएं डायरियां जलाती जाती,
बूढ़े लोग भगवद् गीता से जान बचाते,
और हम बेमन से मोहब्बत पाते
जैसे 
क्लास में पहली बार जाने पर
बच्चों को आगे बैठने शौक।

एक गरीब आदमी गटर में गिरा रोकर,
मजदूरों के आन्दोलन सफल नहीं हुए
तब हमारे पड़ोसी ज्योतिषी ने खोज कर बताया,
दोनों का मुहूर्त नही निकलवाया था
और ग़ज़ब् की बात यह कि
जहर से चुपड़ी हुई रोटी
नही खाई जा सकती दो साल से ज्यादा।
दुनिया के सबसे पागल आदमी को
आप नही देखना चाहते मुस्कुराते हुए
यह नियम है।
नही रोके जा सकते वे पैर,
जो राष्ट्रगान सुनकर भी चलते रहते हैं।
हर कोई इतिहास की सबसे गहरी गहरी मौत मरना चाहता है, 
कि आँखें हैं, कान हैं, दिमाग है
पर विचारधाराएँ खत्म हो चुकी हैं
यह मज़बूरी है,
विडम्बना है,
शोक सन्देश जैसा है 
जैसे रेत के घड़े में 
हम लोग अपना सुख ढूंढते है। 
इस कविता में न ईश्वर है 
और न ही कारण, 
बेबसी है, लाचारी है, हत्या है। 
बेहतर होता मैं कोई अच्छी बात लिखता
खैर, उसने चाकू मारा था मेरे भूखे पेट में
फिर भी
सुबह अख़बार के आठ नम्बर पेज पर
मैं रसोई की नदी में कूदकर मरा,
मुब्तिला हुए कई 
उदास लोगो के कानों में 
मैं अपना दर्द चिल्लाना चाहता हूँ,
कि ईश्वर खोजे नही जाते , 
पैदा किये जाते हैं

लेकिन

हैरानी की बात तो यहाँ होती,

जब मैं आपको बताता की
महमूद गजनवी उठते ही‚ 
दो घंटे रोज नाचता था।

बृजमोहन स्वामी “बैरागी”
हिंदी प्रगतिवादी लेखक
नोहर, राजस्थान
335523

Loading...
SHARE
Previous articleअर्धांगिनी का प्रतिकार(सुधीर सिंह सुधाकर)
Next articleशोर (लघुकथा) by Dr.Purnima Rai
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here