संस्कारों का मान -लघुकथा(देवेंद्र सोनी)

2
217

 

संस्कारों का मान (लघुकथा)

बात रमेश के अस्तित्व पर आकर अटक गई थी । रह-रह कर उसका मन अपनी जिंदगी को यूँ ही खत्म करने के लिए उकसाता था पर वह इन विचारों को नकारने की पूरी कोशिश करता । उसके जेहन में मृत्यु शैय्या पर लेटी अपनी मां के वे शब्द गूंज जाते जो उन्होंने अपने अंतिम समय में कहे थे । जाते – जाते अपने इकलौते पुत्र रमेश से यही कहा था उन्होंने – बेटा मेरे बाद तू अकेला हो जाएगा । अभी बेरोजगारी से जूझ रहा है। हिम्मत मत हारना और हर स्थिति में मेरा कामयाव राजा बेटा बनकर मेरे संस्कारों का मान रखना। घर की आर्थिक स्थिति तू समझता है । तुझे ही अब अपनी और अपने पिता की जिम्मेदारी उठाना है । जो कुछ थोड़ा बहुत है घर में उसी से कुछ काम – धंधा कर लेना। …पर यह क्या माँ की मृत्यु के कुछ समय बाद ही पिताजी नई मां ले आए । युवा रमेश का मन इसे स्वीकार नही पा रहा था । जैसे – तैसे कुछ दिन तो ठीक ठाक निकले । फिर पिताजी ही उसे लेकर रोज – रोज उलाहने देने लगे। रमेश रोज सुबह नोकरी की तलाश में निकलता और देर रात घर लौटता । तंगहाली और निराशा उसे अवसाद का शिकार बनाती जा रही थी । घर में उसका अस्तित्व शून्य होते जा रहा था । जब भी घर छोड़कर जाने का मन करता अपनी मां के अंतिम शब्द उसकी राह रोक लेते और वह अपने अस्तित्व को निरन्तर नकारे जाने के बाद भी मन मारकर रात को घर लौट आता।
नई मां रमेश की इस मनोदशा को समझ रही थी पर रमेश को समझाने से हिचकती थीं लेकिन आखिर कब तक अनदेखा करती – अब थी तो वह आखिर रमेश की माँ ही । भले ही नई हो या समाज की नजर में सौतेली।
अंततः एक दिन उन्होंने रमेश से खुलकर बात करने की ठानी और अपने पतिदेव को भी इसके लिए सहमत कर लिया ।
देर रात जब रमेश घर लौटा तो बेहद उदास था । नई माँ ने बात शुरू करते हुए रमेश से कहा – देखो बेटा तुम स्वीकारो या न स्वीकारो पर अब मैं ही तुम्हारी माँ हूँ । जानती हूँ तुम्हारे लिए यह स्वीकारना आसान नहीं है पर वर्तमान में रहना सीखो । मैं तुम्हारी जन्म देने वाली मां नहीं तो क्या – आखिर हूँ तो माँ ही । मत कहो मुझे माँ पर अपनी दशा सुधारो और नोकरी की तलाश में यहां – वहां भटकना छोड़ अपना ही कोई काम – काज शुरू कर लो । तुमने कम्प्यूटर का कोर्स किया है । इसी को आधार बनाकर अपना काम प्रारम्भ कर लो । ईश्वर और तुम्हारी माँ का आशीष तम्हे सफलता देगा और हाँ ये मेरे पास पचास हजार की नगदी रकम यूँ ही पड़ी है । कल ही इससे जरूरी सामान खरीद लेना। पडौस के शर्मा जी की दुकान मैने किराए पर ले ली है। अच्छा सा मुहूर्त देखकर अपना खुद का काम शुरू करो। अब यहां-वहां भटकने की जरूरत नहीं ।
यह कहकर नई मां ने रमेश को पैसे दिए । रमेश कुछ कह पाता इससे पहले ही उन्होंने अपनी आँखों में आते आंसुओं को रोका और पलट कर वापस अपने कमरे में जाने का उपक्रम कर दरवाजे की ओट में खड़ी हो गई।उन्हें रमेश की प्रतिक्रिया का इंतजार जो था। इधर
रमेश स्तब्ध हो गया । सोच रहा था जो नई माँ कल तक उसे अनदेखा करती थी , आज उनमे अचानक यह बदलाव कैसे ? जिसे वह कभी मां नही कह पाया आज वही उसके अस्तित्व को बचाने के लिए अपनी जमा-पूंजी दे गई। इसी उहापोह में बरबस ही उसकी नजर अपनी मां की तस्वीर पर गई । उसे लगा जैसे वह मंद – मंद मुस्कुरा कर कह रही है – माँ तो माँ ही होती है।
अब रमेश भी मुस्कुरा रहा था । अनायास ही उसके मुंह से निकली माँ की ध्वनि से पर्दे की ओट में खड़ी नई माँ भी मुस्कुरा उठी । उसे लगा जैसे उसने अपने अस्तित्व के साथ ही रमेश का अस्तित्व भी बचा लिया।

 


– देवेंन्द्र सोनी, इटारसी।
प्रधान सम्पादक , युवा प्रवर्तक , इटारसी।
9111460478

परिचय—

देवेन्द्र सोनी नर्मदांचल के वरिष्ठ पत्रकार तथा ‘ साप्ताहिक युवा प्रवर्त्तक ‘ के प्रधान संपादक हैं । साथ ही साहित्यिक पत्रिका ‘ मानसरोवर ‘ एवं ‘ स्वर्ण विहार ‘ के प्रधान संपादक के रूप में भी उनकी अपनी अलग पहचान है । पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए उन्हें सम्मानित् किया जाता रहा है । एक सफल प्रकाशक के रूप में भी उनको बेहद सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है । उनके मार्गदर्शन तथा संपादन में अनेक कृतियों का प्रकाशन भी हुआ है । लेखन के क्षेत्र में भी वे निरन्तर सक्रिय रहे हैं । कहानियों से शुरू हुआ उनका सफर कविताओं तक यूं ही नहीं पहुंच गया । आभासी संसार ( Virtual World -Facebook , Whatsapp etc ) में भी वे अपनी सक्रियता से सबके पसन्दीदा लेखक बन गए हैं । म. प्र. शासन द्वारा अधिमान्यता प्राप्त पत्रकार हैं तथा मध्यप्रदेश में राज्य शासन द्वारा गठित पत्रकार कल्याण समिति के भी मनोनीत सदस्य रहे हैं ।

 

Loading...
SHARE
Previous articleहम तुम जुदा हो गये -क्षणिकाएँ (चन्द्रप्रकाश पाण्डे )
Next articleटूटी खटिया, तन बंज़र क्यों?(विनोद सागर)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

2 COMMENTS

  1. बहुत ही सुंदर संदेशप्रद सृजन…एक ही भाव को बहुत ही खूबसूरती से आपने शब्दों की कलाकारी के माध्यम से प्रस्तुत किया है।सामयिक संदर्भ में अपनी रचनाधर्मिता को प्रस्तुत किया।।।बधाई…आ.देवेंद्र जी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here