*हे शरद के चंद्र*

0
125

*हे शरद के चंद्र*
(सुशील शर्मा )

हे शरद के चंद्र
तुम इतने शुभ्र शीतल

प्यार में पूरे पगे से
रात कुछ सोए जगे से
स्वप्नीले आसमान में
तुम इतने निर्मल
हे शरद के चंद्र
तुम इतने शुभ्र शीतल।

नील लोहित शाम
का है इशारा
उड़ती गोधूलि बेला
अद्भुत नजारा।
नील मणि सदृश्य
आकाश में तरल
हे शरद के चंद्र
तुम इतने धवल।

प्रिय प्रेम पाश में बंधी
अनवरत विकल
ये चांदनी क्यों बिछी
हीरक सी तरल।
ये नवयौवना सी सरिता
क्यों भागे उछल उछल
हे शरद के चंद्र
दिखते तुम नवल।

अधखुले झरोखे से
झांकती चन्द्रकिरण 
विह्वल मदमाती सी 
करती पिया का वरण 
मौन प्रिय प्रवास 
होता कितना विरल। 
हे शरद के चंद्र 
तुम इतने विव्हल। 

नीड़ में कुछ स्वप्न 
आशाओं से मढ़े हैं 
नवल कलियों के मुख 
अब खुल पड़े हैं। 
स्वच्छंद सुमंद गंध 
बहती अविरल 
हे शरद के चंद्र 
तुम क्यों इतने सरल।

सुशील शर्मा
वरिष्ठ अध्यापक
कोचर कालोनी
गाडरवारा
9424667892

Loading...
SHARE
Previous articleशरद ” पूर्णिमा ” चाँद सुहाना ,आसमान ये नीला है।
Next articleएक वंदन, वाल्मीकि को!!(आज के दिन विशेष)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here