“यादों में तुम “काव्यसंग्रह का विमोचन समारोह

0
163

युवा कवि विनोद सागर रचित काव्यसंग्रह   यादों में तुम  :  सकारात्मक प्रेम की कविताओं का संग्रह : अविनाश देव

हुसैनाबाद :- हुसैनाबाद के गणेशपुरी स्थित ज्ञानोदय पब्लिक स्कूल के प्रांगण में साहित्यिक संस्था मौसम के तत्वावधान में बुक बजूका पब्लिकेशन द्वारा प्रकाशित संस्था मौसम के अध्यक्ष युवा कवि विनोद सागर के प्रेम पर केंद्रित चौथे काव्य-संग्रह यादों में तुम का विमोचन किया गया। कार्यक्रम की शुरूआत बतौर मुख्य अतिथि झारखंड सरकार के माटी कला बोर्ड सदस्य अविनाश देव ने माँ सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप-प्रज्ज्वलित कर किया। तत्पश्चात मुख्य अतिथि अविनाश देव, विशिष्ट अतिथि राजेन्द्र पाल, मानस के अध्यक्ष परमानंद चौधरी, विधायक प्रतिनिधि अक्षय मेहता, भूतपूर्व डीएसपी डाॅ0 रामकिंकर सिंहा, प्रो0 शीला सिंहा, युवा कवि विनोद सागर, ललन प्रजापति, अजय गुप्ता, सुदर्शन प्रजापति आदि ने काव्य-संग्रह यादों में तुम का विमोचन किया। मौके पर अविनाश देव ने कहा कि युवा कवि विनोद सागर ने जिस तरह से साहित्य का परचम पूरे देश में लहराकर पलामू नहीं, बल्कि पूरे झारखंड का नाम रौशन किया है, जो कि सराहनीय के साथ-साथ अनुकरणीय भी है। हमें भी सागर के जज़्बे से सीखने की जरूरत है। यादों में तुम प्रेम के सकारात्मक कविताओं का संग्रह है, जो हमें नफरत करने की जगह प्यार करना सिखलाता है, वहीं मानस के अध्यक्ष परमानंद चौधरी ने यादों में तुम काव्य-संग्रह को प्रेम का अनूठा संकलन बताया। मौके पर विधायक प्रतिनिधि अक्षय मेहता ने कहा कि यादों में तुम भौतिक प्यार पर कुठाराघात करने वाला संग्रह है, क्योंकि इस संग्रह में प्यार की मिठास है और सारी कविताएँ भाव से परिपूर्ण हैं, वहीं नवाह यज्ञ समिति के अध्यक्ष राजेन्द्र पाल इसे साहित्य जगत के लिए क्राँति बतलाया। मौके पर युवा कवि विनोद सागर ने यादों में तुम शीर्षक कविता का पाठ भी किया। इसके अलावे बीच-बीच में लोकगायक यशवंत मुन्ना विनोद सागर की गजलों को गाकर महफिल में जान भरने का कार्य करते रहें।

कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था मौसम के मीडिया प्रमुख परमानंद चौधरी ने किया, वहीं मंच-संचालन का कार्य मो0 नासिर एवं वीरेन्द्र क्राँतिकारी ने किया। कार्यक्रम का धन्यवाद-ज्ञापन विद्यालय के निदेशक मनोज कुमार प्रजापति ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में शिखा कुमारी, अनुप्रिया, पप्पू यादव, शोभा प्रजापति, प्रवीण कुमार समेत सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

Loading...
SHARE
Previous articleगरीबों की दुआ, जो हो जाये कुबूल!!
Next articleभयानक देव
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here