कलयुग में ज़िंदा रावण का वज़ूद:विनोद सागर”वही रावण जलाये,जो स्वयं राम है”दशहरा- विशेषांक2017

1
148

कलयुग में ज़िंदा रावण का वज़ूद:विनोद सागर

मेले में रावण के पुतले को जलाकर
अपने घर लौटने के बाद जैसे ही
मैं कमरे में दाख़िल हुआ ही था कि
रावण के अट्टहास सुनकर मेरे तो
दोनों कान खड़े हो गएँ भय से…
वो बोला-‘‘क्यों मेरे योद्धा! जला आए
तुम मुझको रामलीला के ज़ुलूस में…?’’
मेरे योद्धा’ शब्द सुनकर मैं चकराया
साथ ही रावण को ज़िंदा देखकर
मैं भयभीत हो अंदर ही अंदर घबराया
पूछा-‘‘तुम ‘ज़िंदा हो अभी तक…?
और मैं तुम्हारा योद्धा हूँ, तो कैसे?’’
सुनकर रावण पहले तो मुसकाया
फिर बात को उसने आगे बढ़ाया
बोला-‘‘जिस प्रकार से पाँच तत्त्वों से
होता है निर्मित मानव का यह शरीर
ठीक उसी प्रकार मानव के पाँच अवगुण
काम, क्रोध, मद, लोभ और ईष्र्या’
एक साथ मिलकर बनाते हैं मुझ रावण को
और इन पाँच दोषों से तुम भी तो परे नहीं,
इसलिए तुम रामभक्त नहीं, मेरे योद्धा हो
और जब तक मनुष्य के विचारों में यहाँ
ये पाँच अवगुण विचरण करते रहेंगे
तब तक मुझको कोई नहीं मार सकता।’’
मैंने उत्सुकतावश रावण से पुनः पूछा-
‘फिर मुझसे ख़ुद को फूँकवाने का प्रयोजन?’’
रावण पुनः ज़ोरदार ठहाके लगाकर बोला-
‘‘शायद तुम्हें मालूम नहीं कि मेरा ही कुंभकरण
इस कलयुग में राम की भूमिका अदा कर रहा,
त्रेता में तो वह मात्र छह महीने ही सोता था
आज मगर, वह कलयुग में सालों भर सो रहा।
बस हमारी चाल की भनक किसी को न हो,
इसलिए वो अपने योद्धाओं को रामभक्त बनवाकर
पहले उनलोगों से रावण का पुतला बनवाता है,
और फिर एक साज़िश की तहत वह राम बनकर
देश के कोने-कोने में रावण के पुतले जलाता है।
फिर उसके बाद जीव-जन्तुओं की बलि दिलवाकर,
रावण के मरने का ज़श्न भी उन्हीं से मनवाता है।
तभी मैं कहता हूँ कि कलयुग में रावण अमर है,
क्योंकि त्रेता के राम ने मेरे भाई विभीषण को
अपने साथ मिलाकर मेरे तन का नाश किया था,
वहीं आज हमने उसके भक्तों को अपने साथ मिलाकर
कर रहा वध राम के तन और मन दोनों का,
ताकि रहे कलयुग में ‘ज़िंदा रावण’ का वज़ूद।

 

-विनोद सागर,

Loading...
SHARE
Previous articleदृष्टिकोण:आभा सिंह” वही रावण जलाये,जो स्वयं राम है”-दशहरा विशेषांक 2017
Next articleऔर रावण जल उठा:डॉ.सुमन सचदेवा “वही रावण जलाये ,जो स्वयं राम है”दशहरा-विशेषांक2017
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here