क्या वास्तव में रावण राक्षस था:अनीला बत्रा ” वही रावण जलाये जो स्वयं राम है ” (दशहरा –विशेषांक 2017)

0
112

क्या वास्तव में रावण राक्षस था:अनीला बत्रा

राक्षस की परिभाषा क्या है?
वह जो असत्य का साथ दे
वह जो सदभाव का त्याग करे
वह जो स्वयं से ही प्यार करे
जो निज आत्मा का वध करे,
कहा जाता है वह राक्षस है।
पर स्त्री का उसने हरण किया
माना कि छल का साथ दिया
पर सीता की इच्छा के विरुद्ध
कभी न उनका दामन पकड़
चरित्र को कलंकित किया।
आज कौन है उनके सरीखा,
जो वचन अपने पर दृढ़ रहे
आज तो हर जगह पर दानव
कितनी निर्भया को रौंद रहे।
राम राज्य की क्या बात करें
कितने पापी स्वतंत्र घूम रहे,
कई वेश साधुओं का बनाकर
मासूम हृदयों को रौंद रहे।
राम तो न जाने कहाँ खो गए,
आज तो इंसानों की बस्ती में
रावण भी मुझे सच्चरित्र लगे।


अनीला बत्रा
(हिंदी मिस्ट्रेस)
सरकारी सीनियर सेकंडरी स्कूल,मकसूदां।
जालंधर।
एम.ए., बी.एड।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here