अमृतसर से भिवानी के सुनहरे पल :by Dr.Purnima Rai

1
506

अमृतसर से भिवानी के सुनहरे पल: by Dr.Purnima Rai

हिंदी दिवस के पावन उपलक्ष्य में  हरियाणा संस्कृत अकादमी ,पंचकूला एवं गुगनराम ऐजुकेशनल सोसायटी एवं वेल्फेयर संस्था के संयुक्त तत्तवाधान में आयोजित संगोष्ठी एवं विदत्ता सम्मान समारोह आर्यसमाज सभागार ,भिवानी(हरियाणा)16 सितंबर 2017 में एडवोकेट नरेश सिहाग के आमंत्रण पर एवं सम्मान हेतु चयनित मेरी आलोचना पुस्तक “सुरेन्द्र वर्मा का साहित्य” हेतु अकादमी के निर्देशक डॉ.सोमेश्वर दत्त जी के कर कमलों से डॉ.पूर्णिमा राय को “श्रीमती प्यारी देवी घासीराम सिहाग साहित्य सम्मान ” मैडल सहित प्राप्त हुआ।इस अवसर पर पूरे भारतवर्ष से पहुँचे विभिन्न साहित्यिक रचनाकारों से मिलने का सुअवसर प्राप्त हुआ। इस साहित्यिक कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि आचार्य रमेश मिश्र, सहदेव शास्त्री  (संपादक शांतिधर्मी जींद),  डॉ.रामफल दलाल,विमलेेश आर्य डॉ .सुशीला आर्या, प्रोफेसर भारतभूषण जी,लैक्चरार हरिभजन प्रियदर्शी जी ,डॉ.रेखा सोनी ,डॉ.विश्वबंधु शर्मा,डॉ.विमलेश आर्या, डॉ.रशि्म बजाज,डॉ.राजकुमारी ,डॉ.विजय लक्ष्मी,डॉ.कंचन गोयल,प्रोड्यूसर नरेंद्र राय,डॉ.कैलाश चंद्र शंकी,बबीता अग्रवाल,आदि विभिन्न साहित्यकार उपस्थित थे।एक सफल सफर की कुछ यादें —–

हरियाणा संस्कृत अकादमी के निर्देशक डॉ.सोमेश्वर दत्त जी ,सचिव नरेश सिहाग से सम्मान प्राप्त करते हुये डॉ.पूर्णिमा राय, साथ में श्री नरेंद्र राय,डॉ.सुशीला आर्या
“सुरेंद्र वर्मा का साहित्य “आलोचना पुस्तक पर मिला  — सम्मान प्रमाण पत्र एवं मैडल
पुस्तक की प्रति डॉ.सोमेश्वर दत्त जी मुख्य अतिथि (निर्देशक,हरियाणा संस्कृत अकादमी ,पंचकूला )को भेंट करते हुये डॉ.पूर्णिमा राय                 
सम्मानित विभिन्न साहित्यकार …डॉ.रश्मि बजाज, डॉ.राजकुमारी,डॉ.पूर्णिमाराय,डॉ.भारतभूषण,डॉ.हरिभजन,डॉ.कंचन गोयल,डॉ.विजयलक्ष्मी,डॉ.सुशीला आर्या, विनय मिश्रा, मीना गोष्ठे,रविशंकर, डॉ.श्रुति  एवं अन्य                                                                                           
डॉ.पूर्णिमा राय,डॉ.कंचन गोयल,डॉ.भारतभूषण , ,लैक्चरार एवं प्रोड्यूसर नरेन्द्र राय ,डॉ.हरिभजन प्रियदर्शी                                           
भिवानी,हरियाणा के समाचार पत्र में कार्यक्रम की कवरेज
आर्यसमाज सभागार में पहुँचे विद्वजन                                                  
पुष्पवाटिका से कार्यक्रम स्थल पर जाने से.पहले
15 सितंबर को भवानी जाते हुये रास्ते में माछीवाड़ा स्थल.पर..
भवानी से वापसी पर शाम के वक्त कोटकपुरा शाही हवेली रात 9.30 ..16 सितंबर डॉ.पूर्णिमा राय एवं श्री नरेन्द्र राय
भिवानी पुष्पवाटिका में कार्यक्रम में जाने से पहले…
Loading...
SHARE
Previous articleहमारा गान हिंदी है(प्रशान्त मिश्रा ‘मन’)हिन्दी दिवस14सितंबर2017
Next article दादी की कमाई
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

  1. बहुत बहुत बधाई और अनन्त शुभकामनाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here