हिन्दी का पूजन पग-पग है!!(डॉ.पूर्णिमा राय)हिन्दी दिवस14सितंबर2017

1
98

हिन्दी का पूजन पग-पग है!! (डॉ.पूर्णिमा राय)

हिन्दी से तन-मन खिल जाए।
हिन्दी से सब गम मिट जाए।।
हिन्दी भाषा अजर अमर है;
हर भाषा में घुल-मिल जाए।।

स्वर व्यंजन हम जब लिखते हैं।
दीप दिलों में तब जलते हैं।।
हिन्दी भाषा के गौरव से ;
विश्व पटल पर जन सजते हैं।।

भाषा को सम्मान दिलाएं।
बाल युवा वृद्ध को पढ़ाएं।।
हिन्दी को समृद्ध करें सभी;
भारत का आँगन महकाएं।।

बोल खड़ी बोली के कहते।
हिन्दी भाषी दिल में रहते।।
भाषा पर अधिकार जमा कर;
नदिया की धारा सा बहते।।

नवरस मीठा गान सुनाएं।
जीने का अरमान जगाएं।।
भाषा की दीवार तोड़कर;
हिन्द-प्रेम से भवन बनाएं।

ज्यों चाँद “पूर्णिमा” जग-मग है।
त्यों हिन्दी भाषा रग-रग है।।
महादेव के वंदन जैसा;
हिन्दी का पूजन पग-पग है।।

डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर(पंजाब)

Loading...
SHARE
Previous articleमैं हिन्दी हूँ (अर्विना गहलोत)हिन्दी दिवस14सितंबर2017
Next articleहिंदी भाषा उसकी उपभाषाएँ और सम्बंधित बोलियां( सुशील कुमार शर्मा)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here