सुशील शर्मा : कृतज्ञ हूँ आपका-मेरे शिक्षक मेरा आदर्श (5सितंबर2017 विशेषांक)

0
155

सुशील शर्मा : कृतज्ञ हूँ आपका

कृतज्ञ हूँ आपका
ज्ञान की सड़क पर
हमें व्यवस्थित चलना सिखाया।
हमें मस्तिष्क की शक्ति प्रदान कर
आकाश सा ऊँचा उठाया।
आप पथ की भांति
अपने कन्धों पर लेते रहे।
हमारे पदचापों का भार।
देते रहे हमारे क़दमों को
लक्ष्य का सन्देश।
आपके ऊर्जावान कालातीत शब्द
बने हैं आज भी मील के पत्थर।
हमारे मन पड़ी गर्द को
आपने बुहारा है कई बार
अपने ज्ञान के डस्टर से।
जीवन की अनंत यात्रा का
आपने किया है सफल नेतृत्व।
एक दीपक की लौ से
आपने प्रज्ज्वलित कर दिए
हज़ारों सूर्यों को।
आपने सिखाया है कि
अपनी बुराइयों को जीत कर
प्रगति के अविरल पथ पर
बहना जी जीवन है।
आप संस्थापक हैं
हमारे भूत ,वर्तमान और भविष्य के।
हृदय में चुभे संघर्ष के शूलों को
आपने ही स्नेह भरे सहारे ने
बदल दिया महकते गुलाबों में।
जब कभी निर्बल आत्मबल
ने हारने की कोशिश की।
आपकी गरजती हुंकार ने
एक साहस दिया मन को
असफलताओं में झूझने का।
कदम जब भी मुड़े गलत दिशा में
आपके प्रचंड व्यक्तित्व का त्रिशूल
हमेशा दिशा निर्देशित करता रहा।
मेरा बचपन आपके स्नेह से लिप्त रहा।
मेरा वर्तमान आपके व्यक्तित्व से अभिभूत है ।
मेरा भविष्य आपके अनुभवों का ऋणी रहेगा।
हे गुरुवर ! ईश्वर से प्रार्थना है।
हर जन्म में मेरा अंतर्मन
आपके ज्ञान के सूर्य से आलोकित हो !
आपका ह्रदय से कृतज्ञ हूँ।
आपके श्री चरणों में सादर नमन।

सुशील कुमार शर्मा S/o श्री अन्नीलाल शर्मा
शिक्षा-M Tech(Geology)MA(English)
पारिवारिक परिचय- पत्नी-डॉ अर्चना शर्मा
साहित्यिक यात्रा-देश विदेश की विभिन्न पत्रिकाओं समाचार पत्रों में करीब 500 रचनाएँ प्रकाशित।
शासकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय, गाडरवारा, मध्य प्रदेश में वरिष्ठ अध्यापक (अंग्रेजी) के पद पर कार्यरत
पता-कोचर कॉलोनी तपोवन स्कूल के बाजू में बंजारी धाम गाडरवारा जिला-नरसिंहपुर( म प्र)पिन-487551
फ़ोन-9424667892
ईमेल-archanasharma891@gmail.com

Loading...
SHARE
Previous articleडॉ.पूर्णिमा राय: तमाचा -मेरे शिक्षक मेरा आदर्श (5सितंबर2017 विशेषांक)
Next articleप्रशान्त मिश्रा मन:अजेय हो! अनंत हो!-मेरे शिक्षक मेरा आदर्श (5सितंबर2017 विशेषांक)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here