अभियान(डॉ.संजय चौहान)

0
123
अभियान
जारी रख तू अपना अभियान ।
पूर्ण होगी तेरी इच्छाएँ,
मिलेगी सानंद संपूर्ण दिशाएँ,
बनी रहे मन में आशाएँ ,
फलित होगी तेरी कामनाएँ,
न कर मिथकीय अभिमान ,
जारी रख तू अपना अभियान —
चेतना जीवन की पहचान,
थमना तो है मृतक समान,
मत करना कभी विश्राम,
जीवन नित्य नया संग्राम,
मानवता रहे तेरा पैगाम,
शेष रहता है केवल नाम ,
करना है तेझे विघ्न अवसान,
जारी रख तू अपना अभियान—
सत्य की सदा होती जीत,
है दुर्लभ पाना सच्चा मीत,
गाना है समरसता का गीत,
दिखादे जग को समर जीत,
फैलाओ जग में निस्वार्थ ज्ञान,
जारी रख तू अपना अभियान—
मंत्र सहृदयता का लेकर,
संदेश प्रेम का देकर ,
चलता जा अपनत्व की राह,
अपना लेना जन की आह ,
सार्थक होगा तुच्छ जीवन ,
यही राह है पुण्य-पावन ,
फिर होगा जग में तेरा गान,
जारी रख तू अपना अभियान—-

संजय चौहान ,अमृतसर
मो– 9478440472
ईमेल-Sjc78650@gmail.com
Loading...
SHARE
Previous articleटूटता ही जा रहा इन्सान(सुभाषित श्रीवास्तव अकिंचन)
Next articleद्वन्द्ध (रूबी प्रसाद)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here