तीन तलाक का मुद्दा

1
187

तीन तलाक का मुद्दा( गीतिका)

तीन तलाक पर अब तक चुप कलम से आज अदालत का फैसला आने पर अपनी बात रखता हूँ क्योंकि अब कोई ये नही कह सकता कि अदालत का फैसला आने दो ।

★★★★★★★★★★★★★★★
आज देश में संविधान की मर्यादा भी डोल गयी ।
अनुच्छेद व अनुसूची का काला दर्पण खोल गयी ।

मानवता भी शर्मसार है ऐसे चन्द दलालों से ।
नारी का चौराहों पर सम्मान कुचलने वालों से ।

जो तलाक को गुड्डे -गुड्डी का बस खेल समझते हैं ।
वे समाज की सीमा के अंदर कैसे रह सकते हैं ???

जिनको मानवता की सीमा का उल्लंघन भाता है ।
जिनको केवल अपने दिल का दर्द समझना आता है 

नारी जिनके खातिर केवल किसी खेल का हिस्सा है 
शादी और तलाक चार लमहों का कोई किस्सा है ।

जिनको रिश्ते नातों की परिभाषा तक का ज्ञान नहीं 
उनके लिए हृदय में मेरे थोड़ा भी सम्मान नहीं ।।

ऐसा भी क्या धर्म जहाँ नारी का कुछ सम्मान न हो ।
धर्मग्रंथ के पन्नो में इसका कोई भी ध्यान न हो ।

जब विवाह समझौते के सम्बन्धो पर टिक जाते हैं ।
रिश्ते भी अनुबंधों के तटबंधों पर टिक जाते हैं ।

जब तलाक कह देने भर से नारी बेघर हो जाये ।
पुरुषों की मनमानी से जीवन भर वह ठोकर खाये ।

जब तलाक जैसे मुद्दे बाजारों में आ जाते हैं ।
घर की चौखट के झगड़े अखबारों में छा जाते हैं ।

तब समाज की ऐसी सत्ता में बदलाव जरूरी है ।
सदियों के ऐसे नासूरों में इक घाव जरूरी है ।।

नारी का सम्मान अदालत की, चौखट पर ठहरा है ।
किन्तु देश का संविधान तो इस मुद्दे पर बहरा है ।

पूछ रहा हूँ आज ज्ञान के मद में चूर गँवारो से ।
धर्म जाति का सौदा करने वाले ठेकेदारों से ।

धर्म-धर्म का हर मुद्दे पर तुम क्यों शोर मचाते हो ।
सच तो ये है तुम तो केवल हठ का धर्म निभाते हो ।

क्या नारी का मान धर्म की सीमा ही तय करती है ।
क्या मानवता संवेगों के बिना कभी रह सकती है ।

बहुत हुआ ये पक्षपात की राजनीति अब बन्द करो ।
धर्म-धर्म चिल्लाकर ऐसी मूर्खनीति अब बन्द करो ।

धर्म अदालत के दरवाजों पर मोटे ताले डालो ।
संबिधान में नियम कड़ाई से चलने वाले डालो ।

संबिधान में किसी धर्म की कोई लूट नहीं होगी ।
जो मानवता को गाली दे ऐसी छूट नहीं होगी ।

आज अदालत से भारत का बड़ा फैसला आया है ।
सबसे बड़ी अदालत ने नारी का मान बढ़ाया है ।

टूट गयी हाथों की चूड़ी आंखों का काजल रोया ।
बड़े दिनों के बाद खुशी से फूट-फूट बादल रोया ।

रोई सांसो की चिंगारी दिल का भी लावा रोया ।
न्याय व्यवस्था पर यकीन का एक अडिग दावा रोया 

अब मोबाइल पर तलाक के शब्द नहीं गुर्रायेंगे ।
बीबी को गाली देने में शौहर भी शरमायेंगे ।

आज धर्म की विजय कहानी गलियों में आबाद हुई ।
इस भारत की मुश्लिम नारी अब जाकर आजाद हुई 

राहुल द्विवेदी ‘स्मित’,लखनऊ
8299494619
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●

Loading...
SHARE
Previous articleसफेद सुन्दरी (कहानी)धारावाहिक-3
Next articleछन्द,छन्दोभेद एवं मात्रिक छंद(दोहा,सोरठा,रोला,कुण्डलियाँ,गीतिका छन्द ) Dr.Purnima Rai
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here