अभावग्रस्त जीवन एवं चपाती सा स्वभाव

0
93

1) अभावग्रस्त जीवन

अक्सर हम सब ज़िन्दगी के अभावों से डरते भी है और परेशान भी होते है..और बहुत से लोग किसी अभाववश हीनभावना का शिकार भी होते है..जो कि कई बार तनाव में परिवर्तित होकर जीवन को बुरी तरह प्रभावित करता है…….लेकिन सच पूछिए तो अभाव जीवन को प्रभावी बनाने में अति सक्षम होते हैं…… लेडी हेलेन केलर मूक थी,बधिर थी और अंधी थी…लेकिन अतिबुद्धिमान शख़्सियतों की कतार में सबसे आगे खड़ी नज़र आती है..उसके जीवन के अभाव एक बहाव की तरह उसे उस मंजिल तक ले गए। जहां धरती पे पैदा होने वाले अरबों- खरबों लोग बिना किसी अभाव के ज़िन्दगी जीकर गुमनाम मौत की चादर ओढ़ कर रुखसत हो गए ।
दोस्तो ! अक्सर गरीबी में पैदा होने वाले और अभावों से जूझते हुए बहुत से लोग मध्यम-वर्ग की श्रेणी में स्थान बनाते है और कुछ राहत की सांस लेते है…लेकिन ये लोग अपने बच्चों को उन अभावों से कभी भूल से भी दो-चार नहीं होने देते। जिसका परिणाम यह होता है कि मध्यम श्रेणी का एक बहुत बड़ा वर्ग खुद अभावों में जीता है और योद्धाओं की भांति जिंदगी की जंग जीतकर सफल हो जाता है ..लेकिन अपनी औलादों को सुख-सुविधाएं और अभावरहित जीवन देकर निकम्मे और आलसी बना देते है…अतः वो जीवन जीने की कला में अधूरे रह जाते है और कायर सिद्ध होते हैं ।

2)चपाती सा स्वभाव

गर्म-गर्म तवे से पक कर उतर रही चपाती लोग भूख के कारण,मजबूरी के कारण या कई बार औपचारिकतावश भी खाते है….जैसे-जैसे चपाती ठंडी होती जाती है तो यह सूखने लगती है..एक वक्त ऐसा भी आता है कि यह खाने लायक नही रहती और किसी जानवर या पंछियों को डाल दी जाती है…
दोस्तो ! हमारा स्वभाव भी चपाती की तरह होता है ,जिसे लोग किसी न किसी कारण स्वीकार करते हैं या सहन करते हैं..धन,ओहदे ,सत्ता या शक्ति के कारण हमारे रूखे व्यवहार को भी लोग जब आसानी से ज्ज़ब करते है तो इसे हम अपना रौब या शख्सियत का प्रभाव समझ बैठते है…लेकिन सत्य तो यह है कि हमारा धन,ओहदा ,सत्ता या शक्ति जैसे ही क्षीण या समाप्त होती है तो लोग हमारे उसी व्यवहार को तुरंत या कुछ समय के बाद अस्वीकार करने लगते है और हमारे आदेश उस सूखी रोटी की तरह हो जाते हैं जिन्हें जानवरों या पंछियों के आगे छोटे-छोटे टुकड़ों में मसल कर डाल दिया जाता है…याद रहे हमारे व्यवहार में नम्रता उतनी ही जरूरी है जितनी चपाती की ऊपरी परत पर लगाया गया घी होता है …..

राजकुमार ‘राज’,शिक्षक,अमृतसर

 

Loading...
SHARE
Previous articleसफेद सुन्दरी( कहानी ) धारावाहिक-2
Next articleसफेद सुन्दरी (कहानी)धारावाहिक-3
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here