वीर भगत ने सोचा

2
181

वीर भगत ने सोचा (गीत)

सोच रहा हूँ आजादी का मैं भी जश्न मनाऊँ क्या ??
एक रोज के लिए खुशी से झूमू नाचूँ गाऊँ क्या ??

लिए हाथ में एक तिरँगा देश भक्ति का परिचय दूँ ।
इस भारत की गौरवशाली अमर शक्ति का परिचय दूँ 

मैं भी भारत माता की जयकारों के नारे बोलूँ ।
राष्ट्रभक्ति के और क्रांति के बोल बड़े प्यारे बोलूँ ।

कलम उठाकर देशभक्ति की ऐसी अलख जगाऊँ मैं ।
हर भारतवासी की आखों को पल में धो जाऊँ मैं ।

नेताओ के साथ राष्ट्र की चिंता पर खो जाऊँ क्या..
पुनः राष्ट्र हित के मुद्दों की ज्वाला को भड़काऊँ क्या..??

किन्तु सोचता हूँ ऐसा करने से क्या हासिल होगा ।
एक रोज भारतवासी बनने से क्या हासिल होगा ।

कल फिर से मानवता खूनी पंजों की प्यासी होगी ।
संविधान की गरिमा ऊँचे महलों की दासी होगी ।

कल सड़कों पर पड़े तिरंगे पैरों ने कुचले होंगे ।
देशभक्ति के बोल स्वार्थ की भाषा ने बदले होंगे ।

फिर भारत माता की जय, कहने पर लोग भिड़ेंगे भी 
देश गीत गाने पर धर्मो के संघर्ष छिड़ेंगे भी ।

फिर हाथों में पत्थर लेकर बच्चे शोर मचाएंगे ।
उनकी खातिर देश भक्त भी सड़कों पर आ जाएंगे ।

फिर आतंकी सर्प दूर से भारत को फुफकारेगा ।
फिर अपनों को जयचन्दों का झुंड तमाचे मारेगा ।

फिर भारत का सहनायक भी खलनायक बन जायेगा 
सत्ता छिनते ही भारत को कपटी आँख दिखायेगा ।

क्या ऐसी ही आजादी को वीर भगत ने सोचा था ?
क्या सुभाष ने अंग्रेजो से ऐसा भारत छीना था ?

विश्वगुरू ने क्या ऐसा भी बाना कभी चुना होगा ?
क्या गाँधी ने चरखे ऐसा ही देश बुना होगा ?

सोंच रहा हूँ दो दिन की आजादी का क्या मतलब है ।
वीरों की कुर्बानी की बर्बादी का क्या मतलब है ।

ऐसी राष्ट्रभक्ति भी क्या जिसमे कोमल आभास न हो  त्याग-तपस्या और समर्पण का सच्चा विश्वास न हो 

ऐसा देशभक्त भी कैसा जो मजहब में अंधा है ?
जिसके लिए देश मंडी है, देशभक्ति भी धंधा है ?

जिसे शहीदों की कुर्बानी का अपमान अखरता है ।
जो हँसते हँसते मिट्टी के लिए प्राण दे सकता है ।

जो जीवन भर इस मिट्टी का कर्ज चुकाता रहता है ।
एक नागरिक होने का भी फर्ज़ निभाता रहता है ।

जो भारत की गरिमा का सच्चा हितकारी होता है ।
वहीं तिरंगे को लहराने, का अधिकारी होता है ।।

राहुल द्विवेदी “स्मित”

राहुल द्विवेदी ‘स्मित’
8299494619

Loading...
SHARE
Previous articleप्रेम की पहचान से (Independence Day Special)
Next articleहमारी पीढ़ी ने
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

2 COMMENTS

  1. बेहतरीन भावों की अभिव्यक्ति!!हर भारतीय को सोचने पर मजबूर करता सृजन…शुभकामनाएं..स्मित जी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here