आशीष पाण्डेय ज़िद्दी:माटी(राखी और आज़ादी,विशेषांक-अगस्त 2017)

0
193

आशीष पाण्डेय ज़िद्दी:माटी(कविता)

माटी में ही जन्म लिया है’
माटी में मिल जाना है”
देश की रक्षा खातिर हमको”
माटी का तिलक लगाना है”
आज मचा है हाहाकार ‘
देश की सुन लो करुुण पुकार”
खतरे में है माटी अपनी
माटी को हमें बचना है”
कर्ज समझकर फर्ज समझकर’
पाप द्वेष मिटाना है”
माटी को अपनी निर्मल करना’
कचरा दूर भगाना है”
देश की सीमा दुश्मन लांघे’
माटी में दफनाना है”
विश्व में सबसे ऊपर अपना’
ध्वज हमको लहराना है”
देख हमारे लाल किले पर’
विजयी विश्व लहराता है”
काँप जाय वो दुश्मन जो’
शरहद पे कदम बढ़ाता है”
हम ही हैं माटी के रक्षक’
हमको ही कदम बढ़ाना है”
माटी में ही जन्म लिया है’
माटी में मिल जाना है”

आशीष पाण्डेय ज़िद्दी
जन्म : 30 जनवरी,1989
शिक्षा : बीएससी गणित
वर्तमान निवास : शाहनगर पन्ना मध्यप्रदेश
मो….९८२६२७८८३७
ईमेल-ashishpandey173@gmail.com

Loading...
SHARE
Previous articleआभा सिंह:देश कोई चीज़ नहीं(राखी और आज़ादी,विशेषांक-अगस्त 2017)
Next articleकुमार गौरव “पागल”:आ जाना भैया(राखी और आज़ादी,विशेषांक-अगस्त 2017)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here