राखी और आज़ादी (विशेषांक –अगस्त 2017)

2
712
 

      राखी और आज़ादी                         

(विशेषांक-अगस्त 2017 )

 

0)डॉ.पूर्णिमा रायः संपादकीय

1)अँजना बाजपेई:राखी (आलेख)

2)अँजना बाजपेई:आजा़दी का ताज(कविता)

3)अँजना बाजपेई: रेशम के धागों में (कविता)

4)अनीला बत्रा:दिल का रिश्ता(कविता)

5)अर्विना गहलौत:यादों का तूफान(गीतिका) 

6)अशोक गोयल “पिलखुवा” :रक्षाबंधन(गीत)

7)आभा सिंह:देश कोई चीज़ नहीं(गज़ल)  

8)आशीष पाण्डेय ज़िद्दी:माटी(कविता)

9)कुमार गौरव “पागल”:आ जाना भैया(गीत)

10)केशव शरण : पन्द्रह अगस्त(कविता)

11)कैलाश सोनी सार्थकःबहना याद दिलाती है (गीत)

12)कैलाश सोनी “सार्थक”: अनोखी प्रीत( मुक्तक)

13)जियाउल हक:उपहार (लघुकथा)

14)डॉ.पूर्णिमा राय:रक्षाबंधन(कुण्डलियाँ छंद)

15)डॉ.पूर्णिमा राय:भाई मेरा सबसे न्यारा (गीत)

16)डॉ.पूर्णिमा राय:सच्चा जश्न(गीत)

17)डॉ.प्रतिभा’माही:नाता तोड़ न लेना (गीतिका)

18)डॉ.शिवजी श्रीवास्तव:मेरा भारत महान है (गीत)

19)डॉ. शील कौशिक:मोह के धागे (लघुकथा)

20)डॉ.सुषमा गुप्ता:कभी तो (संस्मरण)

 

21)डॉ.सुषमा गुप्ता:भाई की याद(कविता)

22)दीपिका कुमारी दीप्ति:नवभारत (कविता)

23)धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”:राखी(गज़ल)

24)नीरजा मेहता:कलाई से कोहनी तक(संस्मरण)

25)प्रेम गुप्ता ‘मानी’:आज़ादी मुझ तक पहुँच न पाती(कविता)

26)प्रमोद सनाढ्य ‘प्रमोद:झंडा हिंदुस्तान(गीत)

27)प्रशान्त मिश्रा “मन”:राखियाँ(गज़ल)

28)प्रशान्त मिश्रा “मन”:देशप्रेमी(मुक्तक)

29)प्रशान्त मिश्रा मन:कारगिल दिवस (कुकुंभ छंद )

30)मीनाक्षी मेहरा:बेटी स्वयं राखी(आलेख)

31)राजकुमार सोनी:स्वतन्त्रता बनी रहे (गीत)                                                      

32) रुबी प्रसाद: बंधन(लघुकथा)                                                                                      

33 )रेनू सिरोया कुमुदिनी :जय जय भारत की (गीत)    

34)रेनू सिरोया कुमुदिनी”: सूनी राखी(गीत)

35)संगीता पाठक:भारतमाता की फरियाद(कविता)

36)सत्या शर्मा ” कीर्ति “:मैं आजाद हूँ (व्यंग्य)

Presented by Dr.Purnima Rai,Asr

“अचिन्त साहित्य”आनलाइन वेबसाइट पर प्रतिदिन आप हर विधा में रचनाओं का निरंतर आस्वादन करते हैं ,करते रहेंगें।विशेषांक शृँखला का निरंतर रसास्वादन आप सब तभी कर पायेंगे जब तक आप सहृदय रचनाकार अपनी रचनायें भेजकर यथा सहयोग करते रहेंगें।रचनाओं के प्रकाशन हेतु किसी से कोई शुल्क नही लिया जाता है।सिर्फ स्तरीय रचना को ही प्रकाशित किये जाने का संकल्प एवं लक्ष्य है।मात्रा से अधिक गुण सर्वश्रेष्ठ है।यही हमारा मानना है।इस विशेषांक को अपनी उत्कृष्ट रचनाओं से सजाने वाले सभी सहृदय रचनाकारों का हार्दिक आभार।विशेषांक संबंधी सुझावों का सदैव स्वागत।
drpurnima01.dpr@gmail.com

 

 

Loading...
SHARE
Previous articleप्रेम गुप्ता ‘मानी’:आज़ादी मुझ तक पहुँच न पाती(राखी और आज़ादी,विशेषांक-अगस्त 2017)
Next articleतुम्हारी गलियों में,ज्वार,धरती के प्रेमी एवं गौरैया
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

2 COMMENTS

  1. सभी सहृदय रचनाकारों,पाठकों एवं बुद्धिजीवी वर्ग को रक्षाबंधन की हार्दिक बधाइयाँ….

  2. आपके इस प्रयास से भिन्न भिन्न रचनाएं पढने को मिलती है समय से पहले ही इतंजार बना रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here