नाव सा मन( गज़ल)

1
221

        नाव सा मन( गज़ल)
ना जाने …किस किस…. कूल फिरे …
यह नादान ….नाव -सा मन ।।
लहरे…जाल… रेत… नमक
मछुआरे के….. गाँव -सा मन ।।
ठिठुरती इच्छाएँ.. जमा इर्द गिर्द
मद्धिम -मद्धिम अलाव सा मन ।।
कभी सिमटा ..कभी खुला रंग
मोर पंख की श्यामल छाँव सा मन ।।
पुरखे ….पीपल …. नदी …. नहर
दूर रह गये……गाँव सा मन ।।

गौतम कुमार सागर, वरिष्ठ प्रबंधक बैंक ऑफ बड़ौदा ,वडोदरा ( गुजरात)

लेखन कार्य :- विगत बीस वर्षों से हिन्दी साहित्य में लेखन. दो एकल काव्य संग्रह प्रकाशित . तीन साझा संकलनों में रचनाएँ प्रकाशित . विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में  रचनाएँ प्रकाशित . अखिल भारतीय स्तर पर ” निबंध , कहानी एवं आलेख  लेखन ” में पुरस्कृत. 

संपर्क :-102 , अक्षर पैराडाईज़् ,नारायणवाडी रेस्तूरेंट के बगल में,अटलादरा,वडोदरा (गुजरात)  मो–7574820085

Loading...
SHARE
Previous articleजिम्मेदारी
Next articleहृदय द्वार (गीत)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here