वीर एवं वीरांगनाएं (विशेषांक, जुलाई 2017) – दोहा छंद

1
169

१*डॉ.पूर्णिमा राय

जन्म-तिथि–28दिसम्बर
योग्यता —   एम .ए , बी.एड, पीएच.डी (हिंदी)
वर्तमान पता–  ग्रीन एवनियू,घुमान रोड , तहसील बाबा बकाला , मेहता चौंक१४३११४,
अमृतसर(पंजाब)

          शहीद उधम सिंह

भक्त सिंह ,आजाद सभी, उधम जैसे शहीद।
भरी जवानी में सभी ,सहते धूप शदीद।।

उधम सिंह का जन्म हुआ, वो था गाँव सुनाम।
शूरवीर पंजाब ने ,किया देश का नाम।।

शेर सिंह संगरूर में ,बचपन का था नाम।
सर्वधर्म समभाव से ,बदला अपना नाम।।

माँ छाया वंचित रहा ,बचपन पला अभाव।
भाई पिता वियोग में,याद रहा सद्भाव।।

वैशाखी की शुभ घड़ी ,जलियांवाला बाग।
जनरल डायर क्रूरता,उजड़ गया था बाग।।

बैठा वृक्ष की शाख पे ,देखा सारा हाल।
बदले की मन भावना,गुजरे कैसे साल।।

मंगल पांडे ढींगरा ,था उसको सहयोग।
क्रान्तिवीर के नाम से, जानें उसको लोग।।

मान नारी बना रहा , कर में थी बन्दूक।
सचेत हो गोली चली ,हुई ना कोई चूक।।

हिया ज्वाला कचोटती,पल-पल रहे बेचैन।
ओ’डायर को मार कर, मिला हिया को चैन।।

भारत माँ के लाडले, वार गये जो शीश।।
श्रद्धा सुमन अर्पित करें, सभी झुकायें शीश।

********************************************

संकलित एवं संपादित 

डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर

drpurnima01.dpr@gmail.com

विशेषांक संबंधी सुझावों का सदैव स्वागत है।

Loading...

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here