संत कबीरदास की वाणी का संदेश(कुछ अंश)

0
427

संत कबीरदास की वाणी का संदेश(कुछ अंश)

आज इस महानात्मा के जन्मदिवस पर         “अचिन्त साहित्य ” आनलाइन वेबसाइट की ओर से सभी को हार्दिक बधाई!!

1* गुरु गोबिंद दोऊ खड़े काके लागूँ पाय ।
बलिहारी गुरु आपने जिन गोविंद दियो बताय।।

**गुरु और ईश्वर में गुरु ही सर्वोच्च है ।उसकी महिमा अपंरमार है।उस गुरु को परमात्मा से अधिक महत्व दिया है।
2* माला तो कर में फिरै ,जीभ फिरै मुख माहिं
मनवा तो चहुँ दिशि फिरै,यह तो सिमरन नाहिं।।

**कबीर जी ने झूठे रीति रिवाजों एवं खोखले आडंबरों का विरोध करते सच्चे मन से नाम सुमिरन पर बल दिया है।

3* साईं इतना दीजिये,जा में कुटुम्ब समाय
मैं भी भूखा न रहूँ,साधु न भूखा जाये।।

**जीवन यात्रा में अधिक संग्रह के विरो़धी कबीर जी सदैव इतना ही ईश से माँगे रहे,जितना उनके परिवार के लिये एवं घर आये मेहमानों,साधुओं की भूख मिटाने हेतु उचित था।
4* कबीरा गर्व न कीजिये,अस जोबन की आस
टेसू फूला दिवस दस,खंखर भया पलास।।

**जवानी के आलम पर बेसुध लोगों को समझाते कहते हैं ,यह जवानी ताउम्र नहीं रहनी,कुछ दीन की है,बाद में बुढ़ापे ने आ घेरना है।जैसे टेसू यानि पलाश का फूल दस दिन फलता फूलता है ऐसे ही जवानी है।पलाश का फूल बाद में सूखकर खंखर यानि डंठल मात्र रह जाता है।
5*चिन्ता न कर अचिन्त रहु,देनहार समरत्थ
पसू पखेरू जीव जन्तु,तिन के गांठि न हत्थ।।

**मानव को जीवन में चिन्ता रहित रहने एवं एक भगवान पर विश्वास करने की प्रेरणा देते कबीर जी ने बहुत सुंदर उपर्युक्त दोहा लिखा है। हे मानव इस नश्वर क्षणभंगुर संसार में खाने पीने की चिन्ता मत कर!देने वाला समर्थ प्रभु कण कण में हरेक जीव को देते हैं ।पशु ,पक्षी,जुव जन्तु आदि सबको वह देता है ,उनके पास न तो हाथ हैं न गाँठ! इसलिये अचिन्त रह कर ,चिन्ता रहित जीवन व्यतीत कर!!

 

डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर।

drpurnima01.dpr@gmail.com

Loading...
SHARE
Previous articleसंत कबीर जयंती (9जून 2017)
Next articleयादों के झरोखे से
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here