बारिश (हास्य-व्यंग्य)by Dr.Purnima Rai

0
404

हास्य व्यंग्य–बारिश

असमता के पाटों के बीच,पिसता जीवन करे गुहार
बारिश की बूँदों से टपके,दर्द टीस और हाहाकार!!
न जाने क्यों ?लोग यह नहीं सोचते कि हमारा इस तरह का बर्ताव एक तो हमारे खुद के लिये हानिकारक है और दूसरा अन्य व्यक्तियों को ,भी इससे नुक्सान होगा।सड़कें कच्ची थी !नहीं, नहीं,पक्की थी ।अपने ऊँचें घरों को अन्य लोगों के घरों से श्रेष्ठ सिद्ध करने की लालसा ,चाहना ने पक्की सड़क को मिट्टी से ढककर कच्चा बना दिया था।पानी का पाईप बाहर खुली सड़क पर ओवरफ्लो होता, टैंकी भरने पर पानी कभी किसी राही को नहला देता,तो कभी किसी गुज़रती गाड़ी को नहला देता। कहीं झगड़ा न हो जाये,दो चार बार पुलिस भी आ चुकी थी।अब जिसको मुश्किल लगती ,वह खुद बात करे ,औरों को क्या।सबको अपना गेट साफ चाहिये था।हाँ ,भई
साफ-सफाई घर की तो होनी ही चाहिये ।गली-मुहल्ले का रास्ता कीचड़ सना रहे ,हमें क्या!हम तो पैंट टाँग कर जूते हाथ में पकड़ कर निकल ही जायेंगे ।वैसे बलि का बकरा कौन बने! ना जी,हम तो दूसरों के खाली पड़े प्लाट से ईंटें चोरी कर सकते हैं,मिट्टी उठाकर घर का आँगन ऊँचा कर सकते हैं ,हमसे तो न होगा ,किसी को जाकर कहना कि अपना पाईप अन्दर कर लो,फ्री में लोगों को नहला रहे हो!!ना जी,एक बुजुर्ग ने कहा।इधर की चुगली उधर करवा लो,सारे मुहल्ले की खबरिया ले लो हमसे !पर हम तो न कहेंगें कि क्यों रे,बार-बार मिट्टी का बाँध सड़क पर काहे बना देते हो,भई, बारिश कौन सी रोज आनी है,पानी तो पानी है ,हर रंग में घुल जाये।जिधर ढलान हुई ,चला जाये।उसी पानी से ही सीख लो जरा झुकना,हर रंग में रंग जाना।ना जी,हम तो न कहेंगें ,मुहल्ले की अम्मा ने खाँसते हुये कहा ,” हमारी तो दाल भात साँझी है,रोज शाम को फ्री में मिलता है भाँति-भाँति का व्यंजन।”
अचानक तेज आँधी चली,बारिश का अनुमान लगाया जाने लगा।कितनी जोर से होगी।पानी किधर किसके घर की ओर इकट्ठा होगा।जो बुढ़िया पिछले साल मर गई थी ,उसके खाली पड़े घर के परनाले के आगे ईंट घुसेड़ने का प्रोग्राम बनाया जाने लगा।हाय!अल्लाह !मेरा तो हँसी से बुरा हाल था ,लोगों की ऐसी चालें देखकर!खुदा भी अजीब है ! काली घटायें दिन में दिखाई और औले आधी रात को!! दिन चढ़ा ,6.30 बजे के पास स्कूल वैन आई,मजे से गाड़ी चलाता ड्राइवर बच्चों को बिठाकर चल पड़ा ।रात की बरसात से गीली सड़कें , धम्म से गाड़ी का पहिया मिट्टी में घुस गया।बच्चे डरे सहमे हुये! और माता-पिता जोर आजमाइश करते हुये!!
डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर।
drpurnima01.dpr@gmail.com

निम्न लिंक अवश्य पढ़ें

हास्य कहानियाँ – लोटपोट कर देने वाली बकरूदीन की कथाएँ

Loading...
SHARE
Previous articleअपराध (कविता)
Next articleप्रेम का उपहार (कहानी)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here