एक रिश्ता ऐसा भी !

1
233

एक रिश्ता ऐसा भी !

आज सुबह देर से आँख खुली, कमरे की खिड़की खोली ही थी कि धूप अंधेरे को ठेलते हुए अंदर आ गयी।सामने पलाश के पेड़ पर गहमागहमी का माहौल था।ऐसे लगा जैसे कोई बारात आई हो। बसंत ऋतु पलाश के पेड़ पर पूरी तरह मेहरबान लग रही थी । नये लाल सुर्ख परिधान पहने पलाश अपने रुप यौवन पर बार-बार इतरा रहा था। एक डाल पर तोता मैना का जोड़ा अपनी अपनी सुर्ख चोंच को बार-बार पलाश के फूलों पर रगड़ रहा था मानो कह रहा था कि देख लो, मेरी चोंच तुम्हारे रंग से ज्यादा सुर्ख है । इसी बीच एक गिलहरी भी कहीं से रोटी का टुकड़ा मुंँह में दबाये फूलों मे इधर-उधर छुपती फुदकती नजर आई। मधुमक्खियां भी मधु की तलाश में फूलो पर मंडरा रहीं थी ।
मैं हैरान था कि यह वही पलाश का पेड़ है जो साल के ज्यादातर दिन तन्हा अकेला रहता है अौर आज देखो सभी कितना अपनापन दिखा रहे हैं। हर कोई रिश्ता जोड़ रहा है— स्वार्थ का रिश्ता। थोड़ा गहराई से सोचा तो समझ आया कि संसार मे सिर्फ मांँ के रिश्ते को छोड़ कर हर रिश्ता स्वार्थ का ही तो है। प्रकृति यद्यपि मांँ स्वरुपा है ,इस लिये बस इस रिश्ते को ईश्वर ने नि:स्वार्थ बनाया। बाकी सारे रिश्ते हमने अपनी जरूरत के हिसाब से बनाये अौर परिभाषित किये।
ये बात अक्षरश:सत्य है कि हमें हर रिश्ते की कीमत चुकानी पड़ती है । तभी रिश्ता सुचारु रुप से चलता है। वह रिश्ता चाहे पति-पत्नी का हो , बहन-भाई का हो , दोस्ती का हो , या फिर प्यार का !सिर्फ मांँ ही अपने बच्चे पर नि;स्वार्थ वात्सल्य लुटाती है ,तभी शायद मांँ को भगवान का रुप माना गया।
अब देखिये न मैंनें भी पलाश के साथ थोड़ी देर के लिये एक रिश्ता जोड़ लिया –कलम और लेखन का!!
सत्य प्रकाश सिंह (सत्या सिंह)
मो. न, ०९९५६११८१९९
ग्राम – डंड़ियामऊ,पो.–रानीकटरा,
जिला– बाराबंकी(उ. प्र.)

Loading...
SHARE
Previous articleअनकहे जज्बात–3
Next articleजलियाँवाला कांड (कविता)
अचिन्त साहित्य (बेहतर से बेहतरीन की ओर बढ़ते कदम) यह वेबसाईट हिन्दी साहित्य--गद्य एवं पद्य ,छंदबद्ध एवं छंदमुक्त ,सभी प्रकार की साहित्यिक रचनाओं का रसास्वादन करवाने के साथ-साथ,प्रत्येक वर्ग --(बाल ,युवा एवं वृद्ध ) के पाठकों के हिन्दी ज्ञान को समृद्ध करने एवं उनकी साहित्यिक जिज्ञासा का शमन करने हेतु प्रयासरत है। हिन्दी भाषा,साहित्य एवं संस्कृति के विपुल एवं अक्षुण्ण भंडार में अपना साहित्यिक योगदान डालने,समाज एवं साहित्य के प्रति अपने दायित्व का निर्वाह करने हेतु यह वेबसाईट प्रतिबद्ध है। साहित्य,समाज और शिक्षा पर केन्द्रित इस वेबसाईट का लक्ष्य निस्वार्थ हिन्दी साहित्य सेवा है। डॉ.पूर्णिमा राय, शिक्षिका एवं लेखिका, अमृतसर(पंजाब)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here