Home गीत

गीत

सागर के तीर(गीत)

सागर के तीर(गीत) सखी री सावन बरसे झूम मची है दिल दरिया में धूम मिलन का नशा चढा भरपूर सजन है मुझसे कोसों दूर !!१!! मिटे कैसे विरहन की पीर धरूं कैसे मनवा में धीर सजन आजा तूफां को चीर खडी़ हूँ...

चिट्ठी जाने किसकी आयी !!

चिट्ठी जाने किसकी आयी (गीत) रिमझिम-रिमझिम बरसे पानी ये बादल घन घोर।। दिल में मेरे बरस रहा है अब सावन हर ओर।। भीगे-भीगे दिन मस्ताने रात-रात भर ख्वाब सुहाने । रस्ते मिलते कुछ अंजाने लगते पर जाने-पहचाने। मन पागल उड़ने को आतुर ना जाने...

वीर एवं वीरांगनाएं (विशेषांक, जुलाई 2017) – गीत

१*अशोक गोयल पिलखुवा  कवि, लेखक संपादक,समाज सेवी संपर्क-- अशोक साड़ी भंडार ,उमराव सिंह मार्किट पिलखुवा (हापुड़),पिन 245304 यू०पी० मो--- 09457759878,  09259053955 ईमेल---ashokgoel1985@gmail.com           गीत----वीरो का शृंगार जीवन में मरण-त्योहार किसी दिन होता है, वीरों  का   तो  शृंगार...

सुना है वादी में खौफ सा है

सुना है वादी में खौफ सा है                        राहुल द्विवेदी स्मित सुना है वादी.. में खौफ सा है.. जमीनो कुदरत.. सिसक के रोये.... न दर्द पिघला... न...

श्रद्धा के फूल

श्रद्धा के फूल: विनम्र श्रद्धांजलि एक प्रसिद्ध रचनाकार ,कवि एवं विशेष व्यक्तित्व के स्वामी आ.अशोक अरोरा जी के आकस्मिक निधन (ब्रेन हैमरेज) पर बहुत दुख हुआ।उनके पारिवारिक जनों के शोकाकुल होने के साथ-साथ सारे साहित्यिक...

भोर की बयार में

         भोर की बयार में                 (विभा रश्मि) तरु की शाख़ पर प्रेमी शुक युगल चिंता में हैं मगन अब क्या हो कल ?    ...

मैं तो बहता दरिया हूँ

 मैं तो बहता दरिया हूँ  (गीत)            (राहुल द्विवेदी"स्मित") मेरी कहाँ जरूरत किसको, मैं तो बहता दरिया हूँ । जो चाहे बस प्यास बुझा ले, सस्ती एक गगरिया हूँ ।। सबने अपने दाग...

ये कदम पूछते हैं( गीत)

सभी मित्रों को नमस्कार बात 2005 की है ।पापा बहुत बीमार थे डाक्टर्स ने जवाब दे दिया था | उनका केवल दायाँ हाथ और दिमाग काम कर रहा था | पापा स्वयं बहुत बड़े...

साया !! (गीत)

मात-पिता की बड़ी अनोखी माया है !! (गीत) हर जीवन के पीछ़े इनका साया है मात-पिता की बड़ी अनोखी माया है... दो हाथों से बजती है जैसे ताली मात-पिता दोनों से मिलती खुशहाली, बच्चों की खुशियों में गुजरा है...

मुद्दा हल हो पायेगा ?? (गीत)

मुद्दा हल हो पायेगा ?? (गीत) राम लला की जन्मभूमि का, मुद्दा हल हो पायेगा ?? या बहुमत की खातिर मुद्दा,ही बनकर रह जायेगा ?? नही देखता कोई गौरव, मर्यादा रामायण की । छेड़ रहे हैं चमक विपक्षी,...

LATEST

MUST READ

error: Content is protected !!