Home गीत

गीत

भोर की बयार में

         भोर की बयार में                 (विभा रश्मि) तरु की शाख़ पर प्रेमी शुक युगल चिंता में हैं मगन अब क्या हो कल ?    ...

मैं तो बहता दरिया हूँ

 मैं तो बहता दरिया हूँ  (गीत)            (राहुल द्विवेदी"स्मित") मेरी कहाँ जरूरत किसको, मैं तो बहता दरिया हूँ । जो चाहे बस प्यास बुझा ले, सस्ती एक गगरिया हूँ ।। सबने अपने दाग...

ये कदम पूछते हैं( गीत)

सभी मित्रों को नमस्कार बात 2005 की है ।पापा बहुत बीमार थे डाक्टर्स ने जवाब दे दिया था | उनका केवल दायाँ हाथ और दिमाग काम कर रहा था | पापा स्वयं बहुत बड़े...

साया !! (गीत)

मात-पिता की बड़ी अनोखी माया है !! (गीत) हर जीवन के पीछ़े इनका साया है मात-पिता की बड़ी अनोखी माया है... दो हाथों से बजती है जैसे ताली मात-पिता दोनों से मिलती खुशहाली, बच्चों की खुशियों में गुजरा है...

मुद्दा हल हो पायेगा ?? (गीत)

मुद्दा हल हो पायेगा ?? (गीत) राम लला की जन्मभूमि का, मुद्दा हल हो पायेगा ?? या बहुमत की खातिर मुद्दा,ही बनकर रह जायेगा ?? नही देखता कोई गौरव, मर्यादा रामायण की । छेड़ रहे हैं चमक विपक्षी,...

बेडियाँ अब पड़ गईं हैं( गीत)

  गीत  (राजकुमार सोनी) बेडियाँ अब पड़ गईं हैं सत्यता के पाँव में। हो गई देखो मिलावट नीम की भी छाँव मेंं। मौन है परमात्मा कलयुग कसौटी पर खरा। छेद अब दिखता मुझे है जिन्दगी की नाव मेंं। हैं...

शब्दों का सौदागर (गीत)

शब्दों का सौदागर ( गीत ) *********************** मैं शब्दों का इक सौदागर......,नगर तुम्हारे आया हूँ । सौ दुक्खों की एक दवाई,......लिये तुम्हारे लाया हूँ ।। मेरे इन शब्दों में तुमको ,जन जीवन का सार मिले । सुनकर उपजे परम...

सूर्य फिर भी छाएगा

विश्वनाथ तिवारी विश्व निवास- C106 आवास विकास उन्नाव पिन 209801 दूरभाष 98090906565 शिक्षा- स्नातक, बी. टी. सी. सम्प्रति- उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद में कार्यरत।। सूर्य फिर भी छाएगा (कविता) आवरण कितना सघन हो मन कहाँ छुप जायेगा आज हो या कल...

पिता का प्यार by Dr Purnima Rai

(गीत) पिता के प्यार से बढ़कर ,नहीं दौलत जमाने में; जो' खुद को फूँक देते हैं, हमें रौशन बनाने में ।। घटा छाये या तूफाँ हो, न ऊँगली छोड़ते हैं वो ; दुखों में भी हमेशा...

प्रेम के राही by Raj kumar Soni

  राजकुमार सोनी पिता ---श्री गंगाराम सोनी ग्राम-मसौली पोस्ट-मसौली जनपद-बाराबंकी मो----7007348332 ---------8090216365 एक व्यापारी किसान के यहाँ जन्म के संग अच्छे संस्कार मिले ।आपने अबतक लगभग 100मंचो पर कविताँए पढ़ी हैं ।वीर रस को महत्व देते हैं।मलगभग हर विधा पर लेखनी चली...

LATEST

MUST READ

error: Content is protected !!