Home गीत

गीत

आज़ादी

  आज़ादी ****** आज़ादी हम ले आये हैं आज़ादी का मान करो। भारत माता का प्यारो अब तुम सब मिलकर ध्यान धरो। आज़ादी की ख़ातिर हमने क्या क्या पापड़ बेले हैं। बेड़ी माँ की कटवाने को खून से होली खेले हैं। याद सदा तुम रखना...

वक़्त की कैसी अजब ये मार है !

वक़्त की कैसी अजब ये मार है !(गीत) वक़्त की कैसी अजब ये मार है ! फूल की मासूमियत बीमार है ! ओढ़कर नकली मुखौटे आ गये ! खोखले रिश्ते शहर में छा गये ! आस्था का रंग धूमिल...

हिंदी गीति काव्य के युग हस्ताक्षर नीरज जी को विनम्र श्रद्धांजलि!!

   स्वर्गीय गोपाल दास नीरज जी की उम्दा लेखनी!! सच्चा रचनाकार कभी नहीं मरता जीता है सदियों दिलों विचारों भावों में ,94 साल की दीर्घ आयु और बनते बिगड़ते युग जिये और नश्वर शरीर त्याग दिया,...

माँ तुम्हें सलाम :विभिन्न रचनाकारों का कलाम (मातृदिवस पर विशेष)

आज मातृ दिवस है,भारत माँ और देश की हरेक माँ के चरणों में शत शत वंदन !! 1*माँ की वंदना----प्रमोद सनाढ़्य "प्रमोद" राजसमन्द --------------------------- माँ मंदिर माँ रब की पूजा आदर और सत्कार माँ पाक पैगम्बर ख्वाजा का...

 आई वैशाखी,उड़ते पाखी!!by Dr.Purnima Rai

 छंंद   आई वैशाखी,उड़ते पाखी  फसलें भी लहराएं,  रोम-रोम पुलकित,मनवा हर्षित  सबको साथ नचाएं  निर्मल मनभावन,सजता आँगन, मिलकर जश्न मनाएं  पंजाब हमारा,सबसे न्यारा  जग को आज दिखाएं।। ********************************************** गीत  वैशाखी की पावन बेला, मन में प्यार जगाती है। नफरत छोड़ो मिलकर बैठो,मन तकरार मिटाती है।।   फसलें ऊँची प्यारी...

नील गगन में उड़ती चिरैया by Dr.Purnima Rai

नील गगन में उड़ती चिरैया नील गगन में  उड़ती चिरैया,देख के मनवा हर्षाया।  रंग -बिरंगे पंख सलौने,आंगन नभ का महकाया।। बोल सुरीले पैनी नजरें ,सब को राह दिखाती थी; सन्मार्ग पर चले ये दुनिया,हमको हुनर सिखाती थी;...

नवरात्रि की हार्दिक बधाई !!

1*नमो आदिशक्ति(डॉ नित्यानंद'नीरव)   नमो आदिशक्ति भवानी नमामि नमो मातु दुर्गे शिवानी नमामि। तू ही आदि माता तू ही सर्वशक्ति तू ही मेरी पूजा तू ही मेरी भक्ति। तू ही अर्चना अर्पणा भी तू ही हो तू आराधना साधना भी तू...

“मन के किवाड़ खोलकर नारी करे सफर “”अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं “संपादित...

"अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं " "मन के किवाड़ खोलकर नारी करे सफर " अचिन्त साहित्य विशेषांक 8 मार्च 2018 रचनाएँ एवं रचनाकार ------- करो मत कैद,(डॉ .शशि जोशी "शशी ) स्त्री(सत्या शर्मा " कीर्ति...

विजेता हम ही होयेंगे!

  विजेता हम ही होयेंगे......!!! -------------------------------------- शिकस्तों से भरी गठरी नहीं हम सिर पे ढोयेंगे- बचे कुछ स्वप्न हैं अब भी,जिन्हें हम फिर से बोयेंगे, नयी फ़सलात् होंगी मेरे इन सपनों के बीजों से - यकीं है,देर से ही हों,...

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!!by Dr.Purnima Rai

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!! भारत की न्यारी महिमा को ,लोग देखने आते हैं; संस्कारों की फुलवारी में, फूल खिले मन भाते हैं। प्रेम ,समर्पण ,सहनशीलता , से दुश्मन को मारा है; ...

LATEST

MUST READ

error: Content is protected !!