पिंडदान

पिंडदान (लघुकथा) अरे सुधीर तुम यहाँ ? सब ठीक तो हैं ना ? अचानक सुधीर को यू पिंडदान करते देख चौंक पड़ा विमल । पूछे बिना...

हादसा (लघुकथा)

            हादसा                       (मधु छाबड़ा "महक",नई दिल्ली) सहमी हुई वंशिका नहीं समझ...

विरह (लघुकथा)

 विरह by प्रेरणा गुप्ता  ईमेल - prernaomm@gmail.com मो - 09793800751 पता - S K Textile 50/28, Naughara Kanpur - U P, Pin -20800 श्रुति चौंक पड़ी, “दादीमाँ और गाना ?...

गुड्डी by Dr Purnima Rai

डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर गुड्डी ( लघुकथा) पापा की गोद में बैठी गुड्डी ने बड़े प्यार से पूछा,पापा !आप मुझे कितना प्यार करते हो?अरे,तू तो मेरी जान है,बहुत-...

वो तो सपना था (लघुकथा)

वो तो सपना था (लघुकथा) यूं अचानक शशि को देखकरसकपका गयी, रिया! और डायरी को तकिये के नीचे छुपाने लगी । उसे यूं करता देख...

दादी की रोटी (जियाउल हक)

  दादी की रोटी ( लघुकथा) सोनी अपनी दादी के लिए नाश्ता लेकर जाने लगी तो उसकी मम्मी धीरे से बोली "सुन एक बात, आज छः...

एक लोटा !!

एक लोटा पानी ________________________ "मुन्ना एक लोटा पानी देना," कहकर मुन्ना की दादी अपनी बिछावन से उठने लगी, "माँ जी जा कर खुद लाइये, मुन्ना को...

शून्य मन

           शून्य मन          ( प्रेरणा गुप्ता) हमेशा की तरह, बाहर से आता शोर, चलती गाड़ियों के पिंपियाते-किंकियाते हॉर्न...

वीर एवं वीरांगनाएं (विशेषांक, जुलाई 2017) – लघुकथा

                  चरित्रहीन "तो तुम मानती हो उन दोनों लड़कों का कत्ल तुमने किया?" "हाँ सर।" "वजह?" "वजह मैं बता चुकी...

दर्द एक जैसा (लघुकथा)by DevRaj Dadwal

दर्द एक जैसा  देवराज डडवाल ( लैक्चरार अर्थशास्त्र),   " इस चिड़िया ने तो हद ही कर दी है , उड़ती ही नही यहां से । चल...

LATEST

MUST READ

error: Content is protected !!