Home लघुकथा

लघुकथा

वो तो सपना था (लघुकथा)

वो तो सपना था (लघुकथा) यूं अचानक शशि को देखकरसकपका गयी, रिया! और डायरी को तकिये के नीचे छुपाने लगी । उसे यूं करता देख...

एक लोटा !!

एक लोटा पानी ________________________ "मुन्ना एक लोटा पानी देना," कहकर मुन्ना की दादी अपनी बिछावन से उठने लगी, "माँ जी जा कर खुद लाइये, मुन्ना को...

पहचान (देवेन्द्र सोनी)

लघुकथा - पहचान सम्पन्न और शिक्षित परिवार में जब रमेश के यहां पहली पुत्री का जन्म हुआ तो पूरे कटुम्ब में ख़ुशी की लहर दौड़...

   ख्याल( लघुकथा)by Dr. Purnima Rai

           ख्याल (लघुकथा) आज दोपहर को ऑफिस से लंच ब्रेक में निकलते वक्त प्रीति थोड़ा लेट हो गई थी। "अब क्या करुँ?आज...

फ़ासला (लघुकथा)

फ़ासला (लघुकथा) कपास के फाहे से बीज निकाल कर शाम के समय दीपक लगाने के लिए बत्तीयाँ बनाते बनाते मिनकी की दादी ने आवाज लगाई, मिनकी...जरा...

बच्चों की सोच (लघु बाल कथा) बालदिवस 14 नवंबर

बच्चों की सोच (लघु बाल कथा) सुशील शर्मा जंगल के स्कूल में शेर सिंह प्राचार्य थे।जंगल के सभी बच्चे उनके स्कूल में पढ़ते थे। हाथी चंद हिंदी के...

लघुकथा लिखने का ढंग—एक दृष्टिकोण मेरा भीby Dr.Purnima Rai

लघुकथा लिखने का ढंग-एक दृष्टिकोण मेरा लघुकथा संबंधी विभिन्न विद्वानों ने अपने-अपने  आलेखों में लघुकथा के कथ्य,शिल्प,संवेदना.,दशा एवं दिशा संबंधी अपने अमूल्य विचार पेश किये...

जुगाड़ (लघुकथा)

 जुगाड़ (जियाउल हक) भीषण ठंड का मौसम है। ऐसा लग रहा है कि खून भी जम कर बर्फ बन गया हो। झोपड़ी में खटोले पर...

शोर (लघुकथा) by Dr.Purnima Rai

शोर (लघुकथा) हैलो मैडम!हाय मैम!नमस्कार दीदी!कैसे हैं आप?दीपावली की शुभकामनाएं!दीवाली की सपरिवार ढेरों बधाइयाँ!यह दीवाली आपकी जिन्दगी में खुशियाँ और बहार लेकर आये।आप तन-मन से...

विश्वासघात (देवेंद्र सोनी)

जरा हटके - लघुकथा  - विश्वासघात       उच्चकुलीन परिवार की राधा ने अपनी पढ़ाई पूरी करते - सरकारी नोकरी के लिए भी इंटरव्यू दिए थे...

LATEST

MUST READ

error: Content is protected !!