कविताएं

मैं सिर्फ मैं हूँ !!

मैं सिर्फ मैं हूँ !! जब कोई नहीं होता पास मेरे बातें करने के लिए, तब मैं तन्हाई में खुद से ख़ूब बातें करती हूँ । मैं...

गज़ल

क्या वक्त आया साथियो by Dr.Purnima Rai

क्या वक्त आया साथियो (गज़ल) क्या वक्त आया साथियो इन्सां लड़े इन्सान से। बेड़ी पड़ी है पाँव में बेटी डरे यजमान से।1) ये उम्र जिस औलाद की...

आज लड़ना सीख लो

           आज लड़ना सीख लो  (कैलाश सोनी सार्थक गीतकार) रोज कुदरत ये बताती प्रेम करना सीख लो प्रीत की राहें सुहानी उसपे...

हाइकु

लघुकथा

गुनाहगार _ लघुकथा (कमलेश भारतीय )

गुनाहगार कमलेश भारतीय रात देर से आए थे , इसलिए सुबह नींद भी देर से खुली । तभी ध्यान आया कि कामवाली नहीं आई...

दोहे

प्रकाशित पुस्तकें

ओस की बूँदें (काव्य संग्रह) का लोकार्पण समारोह (झलकियाँ)

1*ओस की बूँदें ( डॉ.पूर्णिमा राय) काव्य संग्रह 2*"सुरेन्द्र वर्मा का साहित्य "आलोचना ग्रंथ by Dr purnima Rai

घनाक्षरी

आलेख

छंद ज्ञान

error: Content is protected !!