कविताएं

मन में धधक उठी है ज्वाला!

मन में धधक उठी है ज्वाला! *मन में धधक उठी है ज्वाला,* *दुश्मन तूने क्या कर डाला।* *रँगा रक्त में पुनः तिरंगा।* *उद्वेलित सब को कर डाला।* _गलत राह...

गज़ल

हमने हर आफ़त को हँसकर सर से टाला है।

ग़ज़ल हमने हर आफ़त को हँसकर सर से टाला है। रोज़ नयी उम्मीद- किरन को दिल में पाला है।। गये ज़माने उजले थे जो सच के हामी...

वीर भगत सिंह के जन्मदिन 28 सितंबर पर विशेष!!

वीर भगत सिंह के जन्मदिन 28 सितंबर पर विशेष!! 1) जोश-ओ-जुनून (डॉ.पूर्णिमा राय) जोश ओ जुनून छाया था इस कदर चढ़ गये फाँसी!! भुला दिया स्वत्व स्मरण रहा ममत्व भारत...

हाइकु

लघुकथा

चप्पल (लघुकथा )by Dr.Purnima Rai

चप्पल (लघुकथा )Dr.Purnima Rai आज सब छात्र छात्राएँ बेहद खुश थे।खुश इसलिये कि आज वह एक लंबे अरसे बाद शैक्षिक भ्रमण हेतु सांइस सिटी देखने...

दोहे

प्रकाशित पुस्तकें

ओस की बूँदें (काव्य संग्रह) का लोकार्पण समारोह (झलकियाँ)

1*ओस की बूँदें ( डॉ.पूर्णिमा राय) काव्य संग्रह 2*"सुरेन्द्र वर्मा का साहित्य "आलोचना ग्रंथ by Dr purnima Rai

घनाक्षरी

आलेख

छंद ज्ञान

error: Content is protected !!